Uncategorized 

नर्क मंदिर: यहां पापों का पश्चाताप करने दूर-दूर से आते है पर्यटक

थाईलैंड. दुनियाभर में घूमने के लिए बहुत से खूबसूरत और ऐतिहासिक मंदिर है। देश-विदेश के मंदिरों में लोग अपनी मन्नत मांगने के लिए दूर-दूर से आते है। मगर आज हम आपको एक ऐसे मंदिर के बारे में बताने जा रहें है जहां लोग मन्नत मांगने नहीं बल्कि अपने पापों का पश्चाताप करने के लिए आते है। दक्षिण पूर्वी एशिया के देश थाईलैंड के एक नगर चियांग माइ में एक ऐसा मंदिर है जहां श्रद्धालु नर्क के दर्शन के लिए आते हैं, इस मंदिर में लोग मृत्यु के बाद आत्मा को मिलने वाली सजाओं को देखने के लिए आते है। थाईलैंड में बने इस मंदिर में सिर्फ वहां के ही नहीं बल्कि देश-विदेश से लोग आते है। थाईलैण्ड को प्राचीन काल में स्याम (Siam) नाम से जाना जाता था, यहां अनेक हिन्दू और बौद्ध मंदिर हैं, जिनका काफी ऐतिहासिक और सांस्कृतिक महत्त्व है|

पापों के पश्चाताप के लिए आते हैं श्रद्धालु

थाईलैंड के चियांग माइ शहर में बने ‘वैट मे कैट नोई’ मंदिर में बनी प्रतिमाएं नर्क में दी जाने वाली पीड़ाअों को दर्शाती हैं। सनातन और बौद्ध धर्म से प्रेरित इस मंदिर में कई प्रतिमाएं बनी हुई है, जोकि भयानक तरीके से लोगों को सजा देती दिखाई गई हैं। थाईलैंड में बने इस मंदिर में आप हिंदू धर्म की झलक देख सकते है। यहां पर देवी-देवताओं की बजाएं नर्क में यातनाएं देने वाले राकक्षों की मूर्तियां बनाई गई है। लोगों का मानना है कि इस मंदिर में दर्शन करने वाला व्यक्ति पापों का प्रायश्चित कर लेता है।

इन सभी मूर्तियों का एक भिक्षु प्रा क्रू विशानजालिकॉन ने स्थापित करवाया था, जो लोगों को यह दिखाना चाहते थे कि पाप करने और पीड़ा पहुंचाने का परिणाम कितना भयानक होता है|

Related posts

You're currently offline