प्रदेश के कुछ क्वॉरेंटाइन सेन्टरों में छलक रहे शराब के जाम..हो रही है पार्टी

रायपुर 17 मई। देशव्यापी कोविड 19 के प्रकोप से पूरा देश बेहाल है हमारे बाहर से आए प्रवासी श्रमिकों एवं अन्य नागरिकों को कोरोनावायरस से रोकथाम व बचाव के लिए राज्य के विभिन्न जिलों में क्वॉरेंटाइन किया गया है, ताकि वे 14 दिनों तक वहाँ रहे व कोरोना के लक्षण पाए जाने पर त्वरित चिन्हित कर उपचार की कार्रवाई की जा सके, लेकिन प्रदेश के अधिकांश क्वॉरेंटाइन सेंटरों में नियमों का उल्लंघन कर खुलेआम ग्रामीण स्वजन का आना जाना जारी है। जिला कवर्धा, दुर्ग, भिलाई, राजनांदगांव में क्वॉरेंटाइन सेंटरों में रह रहे लोगों की फरमाईश पर उनके सगे – संबंधियों द्वारा नॉनवेज व अन्य पकवान बाहर से लाकर देने की बातें तो लगातार सामने आ रही थी।

इन सब के बीच जांजगीर जिले में तो इसकी हद ही हो गई जब यहां के सारागांव थाना क्षेत्र के ग्राम सरवानी के हायर सेकेंडरी स्कूल, जो कि क्वॉरेंटाइन सेंटर बनाया गया है, में रह रहे लोगों ने रिश्तेदारों से शराब मंगवाई और नियम कानूनों को तार-तार करते हुए शराब के जाम जमकर छलकाए गए हैं।

ग्रामीणों के शिकायत पर पुलिस मौके पर पहुंची और करीब पांच लोगों के खिलाफ धारा 188, 259, 270, 34 और महामारी अधिनियम के तहत कार्रवाई की।

विशेषज्ञों की मानें तो अगर क्वॉरेंटाइन सेंटरों के लिए निर्धारित मापदंडों का कड़ाई से पालन नहीं किया गया, तो हमें इसके गंभीर परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं और इसका कारण प्रशासन की लापरवाही ही मानी जायेगी क्योंकि किसी भी क्वॉरेंटाइन सेंटरों में निगरानी के तौर पर कोई व्यवस्था नहीं है।