SKS प्रबंधन के मनमानी एवं तानाशाही रवैये से ग्रामीण हो रहे हलाकन.. अपनी मांग को पुरी कराने के लिए ग्रामीणजन बैठे SKS के मुख्य गेट पर ! प्लांट के खिलाफ ग्रामीणों का फुटा गुस्सा.. मुख्य गेट पर बैठे धरने पर ! SKS के तानाशाही व मनमानी के सामने जिला प्रशासन की चुप्पी पर लग रहा है प्रश्न चिन्ह..? जानिए विस्तृत रूप से पुरा मामला.. पढ़ें खबर..!

रायगढ़ , 13 जनवरी । रायगढ़ के खरसिया में बसे पावर प्लांट एस के एस पावर जनरेशन छत्तीसगढ़ लिमिटेड बिंजकोट, दर्रामुड़ा के मुख्य द्वार पर स्थानीय ग्रामीणों द्वारा धरना बैठकर विभिन्न प्रकार की मांग की जा रही है। खरसिया क्षेत्र के एस के एस पावर जनरेशन छत्तीसगढ़ लिमिटेड बिंजकोट , दर्रामुड़ा में स्थित है। जो पावर प्लांट के नाम से जाना जाता है। हमेशा इस प्लांट के विषय मे आप लोगों ने देखा है कोई न कोई शिकायत मिलती ही रहती है। आज फिर एक बार एसकेएस पावर प्लांट से एक मामला सामने आया है। आज फिर हमारे वेबपोर्टल के माध्यम से इस विषय को काफी संजीदगी से हमने जनहित के लिये उठाया है। आज फिर से अपनी मनमानी रवैये को अपनाते हुए एसकेएस पावर प्लांट अपनी तानाशाही पर अड़ा है।

धरने पर बैठे स्थानीय ग्रामीण..!

एसकेएस पावर प्लांट के प्रबंधन के मनमानी एवं तानाशाही रवैये से परेशान होकर स्थानीय ग्रामीणों को काफी पीड़ा हो रही है। उनके इस व्यवहार से ग्रामीणों को काफी असहज महसूस हो रहा है सभी ग्रामीणों में आक्रोश है। एककेएस पावर प्लांट के प्रबंधन के मनमानी रवैये से परेशान होकर स्थानीय ग्रामीणों ने अपनी विभिन्न मांगों को लेकर एस के एस पावर प्लांट दर्रामुड़ा बिंजकोट के मुख्य द्वार पर आज बुधवार सुबह से धरने पर बैठे हैं।

धरने पर बैठे स्थानीय ग्रामीण..!

एसकेएस प्रबंधन के मनमानी रवैये के बारे में जानिए पूरी बात..!

रायगढ़ जिले से महज 30 किलोमीटर की दूरी पर स्थित खरसिया क्षेत्र के एसकेएस पावर जनरेशन छत्तीसगढ़ लिमिटेड बिंजकोट दर्रामुड़ा में स्थित है। स्थानीय ग्रामीण मुख्य द्वार पर धरने पर बैठे हुए है। एसकेएस पावर प्लांट के प्रबंधन द्वारा पुरी तरह से मनमानी ढंग से कार्य किया जा रहा है। प्रबंधन द्वारा प्रभावित क्षेत्रों में विकास की जगह इस क्षेत्र के विनाश किया जा रहा है। वहीं कुर्रूभांटा से एसकेएस पावर प्लांट दर्रामुड़ा बिंजकोट पहुंच मार्ग की सड़क पुरी तरह जर्जर व दयनीय है। कार्य एवं रोजगार के क्षेत्र में स्थानीय बेरोजगारों को रोजगार के नाम से केवल गुमराह किया जा रहा है। विगत कई वर्षों से स्थानीय लोगों को बिजली, पानी, सड़क, चिकित्सा, शिक्षा एवं विकास के नाम पर केवल झूठा आश्वासन दिया जा रहा है। एसकेएस प्रबंधन की इस मनमानी एवं तानाशाही रवैया से स्थानीय लोगों के मन में तनाव एवं आक्रोश का माहौल बना हुआ है। इस गंभीर विषय को लेकर स्थानीय ग्रामीणों ने दिनांक 13 जनवरी 2021 दिन बुधवार को एसकेएस पावर प्लांट के मुख्य द्वार के सामने धरने पर बैठे हुए है।

धरने पर बैठे स्थानीय ग्रामीणों ने, SKS प्रबंधन से की विभिन्न मांग..!

० कुर्रूभांठा से एक के एस पावर प्लांट दर्रामुड़ा बिंजकोट पहुंच मार्ग जो की एस के एस द्वारा क्षतिग्रस्त किया गया है। उसे तत्काल रूप से नवनिर्मित किया जाए।

० शिक्षा के क्षेत्र में एस के एस द्वारा तत्काल रूप से स्कुल निर्माण का कार्य प्रारंभ कर संचालित किया जाए।

० कार्य एवं रोजगार प्रदान करने में जो अनियमितता किया जा रहा है। उसे प्रभावित क्षेत्र के आधार पर किया जाए।

एस के एस प्रबंधन के मनमानी के कारण खरसिया क्षेत्र के आसपास जितने भी गांव है हमेशा इनकी शिकायत मिलती थी। फसल बर्बाद हो रहा है। फ्लाई ऐश डस्ट का जगह जगह उठाया किया जा रहा था। जिला प्रशासन की आंख खोलने की हमने बहुत कोशिश की लेकिन पता नहीं ऐसा क्या एस के एस प्रबंधन से मोहब्बत है और ये समझ से परे हैं। बार बार ग्रामीणों द्वारा दुनिया भर कि समस्याओं को बताया जा रहा है हमारे पोर्टल न्यूज़ ने कई समस्याओं को उजागर किया है। लेकिन अभी तक किसी भी प्रकार कि कोई कार्यवाही नहीं हुई है। विगत कुछ दिनों पहले पाईप लाईन फटने की भी दुर्घटना सामने आई थी। उसको भी उन लोगों ने अपने पावर का उपयोग करके मामला सुलझा दिया था। और आज फिर एक बार ऐसा मामला सामने आया है जिसमें ग्रामीण हताहत हो रहे है। अब देखना है कि जिला प्रशासन और अन्य जिम्मेदार लोग इस विषय पर ग्रामीणों के समक्ष खड़े होते है या नहीं..?