स्वरोजगार से संबंधित लक्ष्य को प्राप्त करने लगाए पूरा जोर-कलेक्टर भीम सिंह.. उद्योग, श्रम, इंडस्ट्रियल सेफ्टी एवं समाज कल्याण के अधिकारियों की समीक्षा बैठक..!

रायगढ़ । जिले में चल रहे स्व-रोजगार से संबंधित लक्ष्य को हर हाल में पूरा करने कार्य योजना बनाएं। इसी तरह जिले में चल रहे उद्योगों में इंडस्ट्रियल सेफ्टी के नियमों का हर हाल में पालन सुनिश्चित करें। उक्त बातें कलेक्टर भीम सिंह ने आज उद्योग, श्रम इंडस्ट्रियल सेफ्टी, समाज कल्याण, लीड बैंक मैनेजर की समीक्षा बैठक में कहीं।

सबसे पहले उद्योग विभाग की डाटा पर चर्चा की गई। इस दौरान उद्योग विभाग के प्रबंधक ने प्रधानमंत्री स्वरोजगार योजना के मिले 61 टारगेट में 81 स्वीकृत और 38 वितरण करने की जानकारी दी। इसी तरह स्वरोजगार योजना के तहत 32 टारगेट में से 38 स्वीकृत और 09 वितरण होने की बात कही। इस दौरान उद्योग प्रबंधक ने बताया कि मार्जिन मनी बैंकों में जमा नहीं करने के कारण कई हितग्राहियों को फंड वितरण नहीं हुए हैं। उद्योग विभाग के अन्य योजनाओं की जानकारी कलेक्टर सिंह ने ली। उद्योग प्रबंधक ने जिले में चल रहे अल्ट्रा मेगा प्लांट, मेगा प्लांट, वृहद प्लांट और मध्यम प्लांट की जानकारी दी। इस दौरान कलेक्टर सिंह ने इंडस्ट्रियल सेफ्टी के अधिकारी से जिले में चल रहे इंडस्ट्रियल सेफ्टी की जानकारी ली। कलेक्टर सिंह ने कहा कि उद्योगों में हो रहे एक्सीडेंट के केस में गंभीरता पूर्वक कार्य करने की बात कही। एक्सीडेंट में हताहत हुए श्रमिकों, मजदूरों के परिवार को समय पर मुआवजा व रोजगार दिलाने सहित इंडस्ट्रियल सेफ्टी के नियमों का अच्छा पालन कराने के निर्देश दिए।

कलेक्टर सिंह ने समाज कल्याण विभाग की योजनाओं की समीक्षा में दिव्यांगों की जांच के लिए आयोजित किये जा रहे शिविर की जानकारी ली। समाज कल्याण अधिकारी द्वारा बताया गया कि अभी तक दो शिविर लगा है और शिविर लगातार लगाने की कार्य योजना तैयार कर ली गई है। इस दौरान कलेक्टर सिंह ने जिले में अस्थि बाधित, ध्वनि बाधित, नेत्र एवं अन्य से संबंधित दिव्यांग की कुल संख्या की जानकारी ली। उन्होंने कहा सभी दिव्यांगों को समाज कल्याण की योजनाओं का लाभ समय पर मिलना चाहिए। इस दौरान उन्होंने समाज कल्याण की योजनाओं के तहत दिव्यांगों की जांच तेज करने और वृहद रूप से शिविर लगाने की बात भी कही। उन्होंने कहा कि दिव्यांगों को अधिक से अधिक संख्या में व्हीलचेयर, छड़ी, चश्मा आदि उपकरण मिलने चाहिए। कलेक्टर सिंह ने श्रम विभाग की योजनाओं की स्थिति की जानकारी ली। प्रवासी मजदूरों के पंजीयन अधिक से अधिक संख्या में करने के निर्देश दिए। इसी तरह कर्मकार संनिर्माण योजना के तहत मजदूरों को होने वाले लाभ, प्रसव लाभ आदि की जानकारी के प्रचार- प्रसार करने के निर्देश दिए। कलेक्टर भीम सिंह ने श्रमिक भोजन योजना के तहत बस स्टैंड में भोजन स्टॉल लगाने के निर्देश दिए। कलेक्टर सिंह ने कहा कि वित्तीय वर्ष कोरोना काल से जरूर प्रभावित हुआ है, लेकिन योजनाओं के शासन से मिले लक्ष्य को हर हाल में प्राप्त करना है। उन्होंने सभी जिला अधिकारियों को लक्ष्य के अनुरूप गंभीरता पूर्वक कार्य करने के निर्देश दिए।

दिव्यांगों को तुरंत मिले लाभ शासन की समाज कल्याण योजनाओं के तहत दिव्यांगों को योजनाओं के लाभ के संबंध में चर्चा करते हुए कलेक्टर सिंह ने कहा कि योजनाओं के लाभ दिव्यांगों को तुरंत मिलना चाहिए। इस दौरान उन्होंने पेंशन स्कीम और उपकरण वितरण की चर्चा करते हुए इसके वितरण वृहद रूप में कराने के निर्देश दिए।

फैक्ट्रियों में सेफ्टी जांच के निर्देश



कलेक्टर सिंह ने बैठक के दौरान श्रम एवं इंडस्ट्रियल सेफ्टी विभाग के अधिकारियों से फैक्ट्री में काम करने वाले मजदूरों, श्रमिकों के सेफ्टी के साथ उनके स्वास्थ्य संबंधित चर्चा भी की। इसमें फैक्ट्री के वर्कर्स को स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां होने की बातें सामने आई, जिस पर कलेक्टर सिंह ने जिले के सभी फैक्ट्रियों में सेफ्टी की जांच कराने के निर्देश दिए।