रायगढ़/ MCH कोविड अस्पताल में हो रहा था हंगामा तो नायब तहसीलदार विक्रम राठौर व टीआई अभिनव कांत सिंह अपनी पूरी टीम के साथ हॉस्पिटल में पीपीई कीट पहनकर घुस गए ! ढाई घण्टे के कड़ी मशक्कत के बाद बनी व्यवस्था ! फिर क्या हुआ पढ़े खबर.. देखें वीडियो..!

रायगढ़। आज फिर से मेडिकल कॉलेज में कोरोना संक्रमित मरीजों के परिजनों द्वारा भीड़ बनाकर अव्यवस्था फैलाये जाने की सूचना मिलने पर तहसीलदार विक्रांत राठौर और चक्रधर नगर थाना प्रभारी अभिनव कांत सिंह की टीम मौके पर पहुंची और व्यवस्था को ठीक किया।

आपको बता दें कि कोविड अस्पताल परिसर में कोविड संक्रमित मरीजों के परिजनों की संख्या अत्यधिक हो गई थी जिसके कारण भीड़ भाड़ की स्थिति निर्मित हो चुकी यही शोर गुल भी काफी ज्यादा हो रहा था जिससे डॉक्टर और संक्रमित मरीज भी परेशान हो रहे थे। मरीजों के अटेंडर अपने पेशेंट की इलाज के लिए डाक्टरों को फोर्स किया जा रहा था सुनने में भी ये भी आया है कि डॉक्टरों को धमकाया भी जा रहा था पूरे अस्पताल में भगदड़ की स्थिति बन चुकी थी। इस स्थिति की सूचना उपस्थित डॉक्टरों ने जिले के प्रशासनिक अधिकारियों और पुलिस विभाग को दिया। सूचना मिलते ही जिला प्रशासन के अफसर एवं चक्रधर नगर पुलिस की टीम मौके पर पहुँची और अपनी जान हथेली पर रखकर पीपीई पहनकर अस्पताल के भीतर प्रवेश किया और अस्पताल परिसर में भगदड़ मचा रहे करीबन 60 से 70 लोगों को समझाइश देते हुए बाहर निकाला और व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने के लिए आवश्यक कार्यवाही भी सुनिश्चित किया।

इस मामले में रायगढ़ के दिलेर अधिकारियों व पुलिस की टीम ने लगभग ढाई घंटे अस्पताल परिसर में रहकर मरीजों एवं अटेंडर्स के परेशानियों को समझा और उन्हें अपने विश्वास में लेकर भरोसा दिलाया कि हॉस्पिटल के मेडिकल स्टाफ बेहतर से बेहतर चिकित्सा के लिए संकल्पित हैं तब जाकर चिंतित परिजनों को भी समझ में आया कि प्रशासनिक टीम की बात में वजन है। चूंकि मरीजों के साथ एक अटेंडर का होना जरूरी है इसलिए केवल एक – एक अटेंडर को छोड़कर बाकी सब को बाहर निकाला गया और व्यवस्था को पुनः सुचारु रुप से शुरू किया गया।

देखें Video :

“आपको बता दें की नायब तहसीलदार विक्रांत राठौर के साथ चक्रधर नगर थाने के टीआई अभिनवकांत सिंह के साथ उनके जांबाज आरक्षक साथीगण के रूप में सतीश पाठक, लोमश राजपूत, विक्कू सिंह ठाकुर, विक्रम कुजूर, चूड़ामणि गुप्ता और संदीप मिश्रा ने दिलेरी दिखाते हुए व्यवस्था को सही किया”