रायगढ/ टीका के बाद बिगड़ी बुजुर्ग की हालत, तीन दिन बाद अस्पताल में मौत..!

रायगढ़, 05अप्रैल। पुसौर तहसील अंतर्गत ग्राम पुटकापुरी के स्वास्थ्य शिविर में तीन दिन पहले कोरोना टीका लगाने वाले ग्राम गोर्र के 75 वर्षीय बुजुर्ग की सेहत बिगड़ने पर उन्हें मेडिकल कालेज अस्पताल रायगढ में भर्ती कराया गया था। शनिवार को बुजुर्ग ने दम तोड़ दिया। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के अनुसार बुगुर्ग लकवा ग्रस्त थे, उम्र अधिक होने की वजह से उसकी हालत बिगड़ती चली गई और मृत्यु हो गई।

31 मार्च को पुसौर तहसील अंतर्गत ग्राम पुटकापुरी में स्वास्थ्य विभाग द्वारा टीकाकरण अभियान चलाया गया था। इसमें बुजुर्ग नकुल सिदार पिता स्व पंचराम 75 निवासी ग्राम गोर्रा ने टीक लगवाया था। स्वजनों के मुताबिक गांव में मितानिन के माध्यम से उन्हें टीकाकरण की जानकारी मिली और वे टीका लगवाने शिविर में गए थे। इसी बीच अपनी बारी आने के बाद बुजुर्ग नकुल ने भी सभी ग्रामीणों के साथ टीका लगवाया। कुछ घण्टो के बाद उसके सेहत में विपरीत असर पड़ने लगा जिसमें उसके शरीर का एक तरफ का हिस्सा कार्य बंद कर दिया। इस स्थिति पर घबराए स्वजन तत्काल उन्हें पुसौर स्वास्थ्य केंद्र ले गए जहां से मेडिकल कालेज अस्पताल लाया गया । उसका सघन उपचार डाक्टरो के निगरानी में किया जा रहा था। इसी बीच शनिवार को उसकी मौत हो गई।

स्वास्थ्य अधिकारी के मुताबिक बुजुर्ग को ब्लडप्रेशर संबंधी परेशानी थी। बीपी हाई होने की उसे पैरालिस अटैक आया। बुर्जुग होने की वजह से स्वास्थ्य में सुधार नहीं आ पाया।

पुत्र ने कहा- पिताजी को नहीं थी कोई बीमारी

मृतक नकूल के पुत्र ने बताया कि उसके पिता को पूर्व में किसी तरह की बीमारी नहीं थी वे स्वस्थ थे। पुटकापुरी गांव में लगी शिविर वह अपने माता-पिता को टीका लगवाया था। मां टीकाकरण के बाद पूरी तरह से स्वस्थ है।

लोगों में मचा हड़कंप

जिले कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीन लगाने का सामाजिक से लेकर शासकीय स्तर में जोर दिया जा रहा है लेकिन पुटकापुरी की घटना से लोगो के जहेने में वैक्सीन कि गुणवत्ता पर प्रश्न चिन्ह लगा दिया लोग भयभीत है आलम यह है कि यह सूचना गांव की गलियों से निकलकर शहर की सड़कों तक पहुच गई है। जो लोगो मे खलबली मचाकर रख दिया है।

टीका लगने से ग्रामीण की मौत नहीं हुई है। बीपी बढ़ने से वह लकवा ग्रस्त हो गए थे। उम्र अधिक होने की वजह से उसकी हालत बिगड़ती चली गई और मृत्यु हो गई।