रायगढ़ : मनरेगा से ग्रामीणों को मिल रहा रोजगार, 73 हजार से अधिक श्रमिक कर रहे कार्य..!

रायगढ़ । वर्तमान में वैश्विक महामारी कोविड-19 के कारण रोजगार संबंधी समस्याएं बढ़ी हैं। परन्तु रायगढ़ जिला अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्रों में निवासरत श्रमिक जो महात्मा गांधी नरेगा योजनांतर्गत पंजीकृत है। उन्हें पर्याप्त मात्रा में आवश्यकतानुसार कार्य उपलब्ध कराये जा रहें है। जिले के समस्त 09 विकासखण्डों के 757 ग्राम पंचायतों में 3693 कार्यों में 73419 श्रमिक कार्यरत है। जिन्हें 193 रूपये प्रति दिवस के दर से मजदूरी का भुगतान किया जा रहा है। मनरेगा के तहत लिये जाने वाले कार्यों में नवीन तालाब निर्माण, तालाब गहरीकरण कार्य, भूमि सुधार कार्य, डबरी निर्माण कार्य, कुंआ निर्माण कार्य, मिट्टी सड़क निर्माण कार्य, गाय, मुर्गी एवं बकरी कोठा निर्माण कार्य जो मनरेगा के तहत स्वीकृति योग्य है उन समस्त कार्यों को अधिकतर मात्रा में स्वीकृति प्रदान की गई है। जिसमें ग्रामीण क्षेत्रों में मांग के आधार पर पर्याप्त कार्य उपलब्ध हो। जिले में प्रतिदिन लेबर संख्या बढ़ रही है जिसमें विकासखण्ड बरमकेला में 12469, धरमजयगढ़ 8584, घरघोड़ा में 5709, खरसिया में 8413, लैलूंगा में 8544, पुसौर में 7537, रायगढ़ में 5053, सारंगढ़ में 13266, तमनार में 3844 मजदूर कार्यरत है।


विकासखण्ड बरमकेला में 325, धरमजयगढ़ 617, घरघोड़ा में 487, खरसिया में 380, लैलूंगा में 465, पुसौर में 408, रायगढ़ में 307, सारंगढ़ में 402, तमनार में 302 कार्य प्रगतिरत है। कोविड-19 को लेकर जिला पंचायत सतर्क है। लगातार प्रतिदिन रोजगार मुलक कार्यों की स्वीकृति की जा रही है ताकि ग्रामीणों को कार्य के लिये बाहर न जाना पड़े। 08 अप्रैल 2021 को जिले में सक्रिय जॉब कार्ड 177416 है जिसमें 321174 सक्रिय मजदूर है। जिसमें समस्त मजदूरों को कार्य प्रदाय करने की कार्यवाही की जा रही है। इसी प्रकार मनरेगा के क्षेत्रीय अमला अनुविभागीय अधिकारी ग्रामीण यांत्रिकी सेवा, उप अभियंता, तकनीकी सहायक एवं ग्राम रोजगार सहायको को संलग्न किया गया है।