मुख्यमंत्री ने सम्बलपुरी में नये शहरी गौठान का किया शुभारंभ.. मवेशियों के चारा-पानी और सुरक्षा व्यवस्था का किया अवलोकन..!

० गोबर निर्मित उत्पादों की ली जानकारी, गौमाता को चारा खिलाकर लिया आशीर्वाद..!

० महिला समूहों, गौमाता मित्र समिति और सफाई मित्र महिलाओं से की चर्चा..!

० गोठानों में आजीविका के अन्य साधन विकसित करने कलेक्टर को निर्देश..!

रायगढ़ । मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज रायगढ़ प्रवास के दौरान जिला मुख्यालय से लगे सम्बलपुरी में नगर निगम द्वारा निर्मित नये शहरी गौठान का शुभारंभ किया। उन्होंने गौठान में मवेशियों के लिए उपलब्ध चारा-पानी और सुरक्षा व्यवस्था का अवलोकन किया। मुख्यमंत्री ने गौठान में महिला स्व-सहायता समूहों द्वारा गोबर से निर्मित विभिन्न उत्पादों की जानकारी ली। उन्होंने गोबर से निर्मित गौकास्ट बनाने की विधि के बारे में दिलचस्पी दिखाई और इसकी प्रशंसा की।

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने गौमाता और बछड़े को चारा खिलाया और उनका आशीर्वाद लिया। इस अवसर पर कृषि मंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री श्री रविन्द्र चौबे, उच्च शिक्षा मंत्री श्री उमेश पटेल सहित धरमजयगढ़ विधायक श्री लालजीत सिंह राठिया, लैलूगा विधायक श्री चक्रधर सिंह सिदार, रायगढ़ विधायक श्री प्रकाश नायक, सारंगढ़ विधायक श्रीमती उत्तरी जांगड़े, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री निराकार पटेल सहित जनप्रतिनिधि, किसान एवं पशुपालक उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने गौठान परिसर में महिला समूहों द्वारा सजाए गये मण्डपों का भी अवलोकन किया। उन्होंने उपस्थित महिलाओं से चर्चा की और उनके अनुरोध पर गौठान में आजीविका के अन्य साधन उपलब्ध कराने के निर्देश कलेक्टर को दिए।

लगभग 45 लाख रूपये की लागत से बने इस गौठान में चारा, पानी, शेड, उपचार सहित मवेशियों के संरक्षण की उत्तम व्यवस्था उपलब्ध है। गौठान का कुल क्षेत्रफल 19 एकड़ है। इसमें से दो एकड़ में चारा के लिए नेपियर घास उगाय जा रहा है। इसकी सुरक्षा के लिए 1600 मीटर क्ष्ेात्र मे मजबूत फेंसिंग किया गया है। गोठान में लगभग 550 मवेशियों को रखा गया है। गौठान में गोबर खरीदी भी शुरू हो चुकी है जिससे वर्मी कम्पोस्ट खाद तैयार किया जाएगा।

गौठान परिसर में नारी सशक्तिकरण स्व सहायता समूह की महिलाओं ने मुख्यमंत्री को कीटनाशक मटका खाद के बारे में बताते हुए कहा कि यह खाद साग-सब्जी का पैदावार बढ़ाने में बेहद उपयोगी है। महिलाओं द्वारा गौठान में गोबर से बने धूप, कपूर, अगरबत्ती के साथ ही शुद्ध दूध, दही, छाछ एवं दूध से बने छेने रसगुल्ले की जानकारी दी।

इसी तरह नगरपालिक निगम से संबद्ध मणिकंचन केन्द्र की स्वच्छता दीदियों ने गोधन न्याय योजना के तहत गोबर से तैयार किये गये विभिन्न देवी-देवताओं की मूर्ति, गोबर की लकड़ी, दिये और वर्मी कम्पोस्ट खाद के पैकेट की जानकारी से मुख्यमंत्री को अवगत कराया। इस अवसर पर जिला कलेक्टर श्री भीम सिंह, एसपी श्री संतोष सिंह, नगर निगम आयुक्त श्री आशुतोष पाण्डेय, एडीएम श्री राजेन्द्र कटारा सहित स्थानीय जनप्रतिनिधि एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।