राज्य स्तरीय साहित्यिक प्रतियोगिता में रायगढ़ के शायर हर्षराज हर्ष रहे प्रथम.. प्रदेश भर के 200 से अधिक कलमकारों के बीच मारी बाजी..!

रायपुर। विगत दिनों राजधानी रायपुर में कोरोना काल में प्रारम्भ हुई प्रदेश स्तरीय कलमकार की खोज प्रतियोगिता का फाइनल आयोजन हुआ। जिसमें रायगढ़ के युवा शायर हर्ष राज हर्ष ने राज्य में प्रथम स्थान प्राप्त करते हुए रायगढ़ को साहित्य गौरव प्रदान किया। यह प्रतियोगिता तीन दौर में सम्पन्न हुई। प्रथम दौर में ऑनलाइन माध्यम से दो सौ से अधिक कवियों ने अपनी रचना भेजी। जिसमें दूसरे दौर के लिए ख्यातिलपब्ध निर्णायकों द्वारा 52 कवियों का चयन किया गया फिर अन्तिम दौर में राज्य के श्रेष्ठ 12 कवियों का कनिष्ठ/वरिष्ठ दो वर्गों में चयन किया गया, इसकी फ़ायनल प्रस्तुति होटल सिंघानिया सरोवर पोर्टिको रायपुर में हुई। जिसमें निर्णायक के रूप में नर्मदा “नरम”, सूफी “शाद” बिलासपुरी, राजेश जैन “राही”, उर्मिला देवी “उर्मि” एवं रूपेंद्र राज की गरिमामयी उपस्थिति में हर्ष ने अपनी प्रस्तुति दी और प्रदेश में प्रथम स्थान प्राप्त किया।

कार्यक्रम की मुख्य अतिथि सुप्रसिद्ध पण्डवानी गायिका पद्मभूषण तीजन बाई, बस्तर महाराज कमल चन्द्र भंजदेव एवं वरिष्ठ साहित्यकार गिरीश पंकज तथा साईनाथ फॉउंडेशन के प्रमुख आशीषराज सिंघानिया द्वारा कला,संस्कृति,संगीत एवं साहित्य के महोत्सव जश्न-ए-ज़बाँ के दौरान प्रतीकचिह्न देकर सम्मानित किया गया। हर्ष की इस उपलब्धि पर तेजराम नायक, प्रशांत शर्मा, प्रदीप कुमार, दुर्गाशंकर इजारदार, चंद्रसेन मिश्रा, पुरुषोत्तम होता, रुक्मणि राजपूत, धनेश्वरी देवांगन,सहित जिले के अन्य साहित्यकारों ने युवा शायर को शुभकामनाएं दीं और उज्ज्वल भविष्य की कामना की।