पिछले साल से खाली पड़े निजी और सरकारी स्कूलों को प्रशासन कोविड हॉस्पिटलों में तब्दील करें- शैलेश मनहर

रायगढ़ 26 अप्रैल 2021:- कोरोना महामारी का स्वरूप पिछले साल की अपेक्षा इस साल और भयावह रूप अख्तियार कर चुका है जिसकी चपेट में आने से सभी वर्गों के लोगों की जान चली गई और जा रही है। बात करें प्रशासन की व्यवस्था पर तो छत्तीसगढ़ राज्य सरकार हर संभव प्रयास कर रही है कि, कहीं भी बेड और ऑक्सीजनों की कमी ना हो, ना ही वैक्सीन की कमी को हो। फिर भी जिले में बेड की भारी कमी हो रही है। सभी अस्पताल फुल चल रहे हैं फिर भी बाहर कतार में सैकड़ों मरीज बेड नहीं होने की वजह से इलाज के लिए वंचित हो जा रहे हैं।

ऐसे में पिछले साल जब से कोरोना महामारी ने अपना असर दिखाना चालू किया है तब से लेकर अभी तक सभी स्कूल बंद पड़े हैं। जिसका उपयोग प्रशासन को कोविड-19 के इलाज के लिए किया जाना चाहिए। क्योंकि अभी के हालात में स्कूल लगाना या लगना संभव नहीं दिख रहा है, तो क्यों ना उसका उपयोग स्कूल प्रबंधन की सहमति से प्रशासन अभी कोविड-19 प्रभावित मरीजों के लिए करें। इससे जिले में बेडों की संख्या भी बढ़ेगी और खाली पड़े स्कूलों का भी सही उपयोग हो सकेगा। और मरीजों को उचित इलाज मिल पाएगा। क्योंकि अभी स्कूल संचालन हो नहीं रहा है और सभी ऑनलाइन क्लास ले रहे हैं। वह भी अपने-अपने घरों से। तो क्यों ना उन खाली पड़े स्कूलों को जिला प्रशासन अपने अंडर में लेकर कोविड-19 हॉस्पिटल में तब्दील कर दे ताकि बेड की बेड की कमी पूरी की जा सके और सैकड़ों लोगों की जान बचाई जा सके।

इस इस कार्य में स्कूल प्रबंधन भी आगे आकर राज्य शासन और जिला प्रशासन के साथ समन्वय स्थापित कर अपनी महती की भूमिका निभाए। फिर जब भी माहौल सामान्य हो और स्कूल संचालन की अनुमति प्रदान हो तो प्रशासन संपूर्ण स्कूल को सैनिटाइज करवा दें। ताकि नन्हे बच्चों में संक्रमण ना फेल पाए।

सतनामी समाज छत्तीसगढ़ जिला इकाई रायगढ़ के जिलाध्यक्ष शैलेश मनहर ने सभी प्राइवेट स्कूलों के प्रबंधकों से अनुरोध किया है की इस विषम परिस्थिति में जब सभी सरकारी एवं प्राइवेट हॉस्पिटलों में कोविड-19 मरीजों की संख्या अधिक है और बेड फुल है और उससे कहीं ज्यादा मरीज बेड नहीं मिलने की वजह से अपनी जान जोखिम में रखकर भटक रहे हैं। उनको आप के सहयोग से नवजीवन प्राप्त हो सके। इस पुनीत कार्य में आप सभी जिला प्रशासन का सहयोग कर इस आपदा को नियंत्रण करने में राज्य सरकार और जिला प्रशासन का सहयोग करें। सभी आपके पहल को सराहेंगे।