Sun. May 26th, 2019

गांव के बच्चे का कारनामा देख सब हुए दंग, ओलिंपिक रिकॉर्ड भी टूटते बचा!

Purai village boy swimming recordभिलाई. दुर्ग के निकट पुरई गांव हैं जहाँ खेल प्राधिकरण की टीम यहां के बच्चो का ट्रायल लेने आई थी। उन्हें पता चला था कि इस गांव के बच्चो में काफी प्रतिभा है, इसी के उद्देश्य से खेल प्राधिकरण की टीम जब यहाँ पहुँची तो उन्हें यहाँ की प्रतिभा का एक नमूना दिखाई दिया, जब 50 मीटर फ्री स्टाइल स्विमिंग रेस में एक गाँव के एक बच्चे द्वारा ओलिंपिक का रिकॉर्ड टूटते-टूटते बच गया। हुआ ये क़ि इस गांव का तैराक एेमन ने 50 मीटर फ्री स्टाइल स्विमिंग में जितना समय लगाया, वह रियो ओलिम्पिक विजेता के लगभग बराबर रहा। अमेरिका के गोल्ड मेडलिस्ट एंथोनी एरविन ने यह दूरी 21.40 सेकंड में तय की थी। जबकि ऐमन ने 22.945 सेकंड में 50 मीटर फ्री स्टाइल की स्विमिंग रेस पूरी की, जो कि बहुत ही थोड़े से अंतर से चूका। ऐमन के इस टाइमिंग को देख नेशनल स्विमिंग कोच भी दंग रह गईं। पहले तो उसे विश्वास नहीं हुआ पर टाइमर पर नजर डाली तो वाकई वह टाइम सबसे बेस्ट था। यहां के बच्चों ने राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में भी 30 से ज्यादा मेडल हासिल किए हैं।

READ THIS….छत्तीसगढ़ सरकार ने 15 गोल्ड मैडल जीतने वाले राष्ट्रीय तीरंदाज को बनाया चपरासी

तालाब में कराया गया ट्रायल

प्राधिकरण की टीम ने तालाब में ट्रायल लेने के बाद मंगलवार को भिलाई क्लब का स्विमिंग पूल में बच्चों को तैराने का फैसला किया। लेकिन जब एेसा नहीं हुआ तो फिर तालाब में ट्रायल हुआ। फिर भी बच्चो ने इसमें भी शानदार प्रदर्शन दिखाया।

इस शानदार प्रदर्शन को देख भारतीय खेल प्राधिकरण की सदस्य गीता पंत ने कहा कि ट्रायल स्विमिंग पूल में होता तो ऐमन की टाइमिंग और बेस्ट हो जाती। ऐमन के इस टैलेंट को राष्ट्रीय कोच भारतीय खेल प्राधिकरण दुर्गेश नंदिनी ने भी सराहा। गौरतलब है कि यहाँ के बच्चो के टैलेंट पता चलने पर खेल प्राधिकरण की टीम यहाँ ट्रायल लेने आई थी। ट्रायल में पहुंची टीम की सदस्य गीता पन्त ने कहा कि इस पूरी प्रकिया में जब तीसरे दिन का ट्रायल पूरा हो जायेगा तब इसके बाद स्विमिंग और फिटनेस टेस्ट के टाइमिंग को नेशनल रिकॉर्ड के साथ मिलाया जाएगा। जिसके बाद ही बेस्ट स्विमर की लिस्ट तैयार होगी। और फिर हम चुने हुए तैराकों को ट्रेनिंग उपलब्ध कराएंगे।

READ THIS…..छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट देश का पहला हाईकोर्ट, जहाँ हिंदी में मिलेगी फैसले की प्रतिलिपि