Sun. May 26th, 2019

पूर्व मंत्री गणेश राम भगत पर धर्मांतरण को लेकर सियासी पारा चढ़ा ,बयान दर्ज

भाजपा के कद्दावर आदिवासी नेता और पूर्व मंत्री गणेश राम भगत पर धर्मांतरण को लेकर जिले में सियासी महौल गरमाने लगा है।
रविवार को पूर्व मंत्री के आवास पर एसडीओपी कुनकुरी के नेतृत्व में जशपुर पुलिस की टीम पहुंची। 

जशपुरनगर/  भाजपा के कद्दावर आदिवासी नेता और पूर्व मंत्री गणेश राम भगत पर धर्मांतरण को लेकर जिले में सियासी महौल गरमाने लगा है। रविवार को पूर्व मंत्री के  आवास  पर एसडीओपी कुनकुरी के नेतृत्व में जशपुर पुलिस की टीम पहुंची।  उन्होने जुलाई 2017 में कांसाबेल में जनजातिय सुरक्षा मंच द्वारा आयोजित एक रैली में दिए गए वक्तव्य के सिलसिले में उनका बयान दर्ज किया।

पूर्व मंत्री के घर पुलिस पहुंचने की भनक मिलने पर जशपुर और सरगुजा जिले से भारी संख्या में मर्थक उनके आवास में जुट गए थे।

जानकारी के मुताबिक केथोलिक सभा कुनकुरी के सहायक सचिव ने 27 जुलाई 2018 को राष्ट्रपति को एक शिकायत पत्र प्रेषित किया था। इस शिकायत में उन्होने बताया कि पूर्व मंत्री गणेशराम भगत ने आरक्षण और धर्मांतंरण को लेकर कांसाबेल में जो बयान दिया वह आधारहीन है। समर्थकों की उपस्थिति में भगत ने इस पूरे मामले में अपना बयान दर्ज कराया।

उन्होनें कांसाबेल की रैली में दिए गए अपने वक्तव्य पर अडिग रहते हुए सर्वोधा न्यायालय और उधा न्यायालयों द्वारा समय-समय पर दिए गए निर्णयों के साथ नियोगी कमीशन की रिपोर्ट और स्व कार्तिक उरांव द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को सौंपे गए ज्ञापन का संदर्भ दिया। दिए गए बयान में गणेश राम भगत के साथ उनके समर्थकों ने भी हस्ताक्षर किए।

जनजातिय बाहुल्य जशपुर जिले में धर्मांतंरण एक बेहद संवेदनशील विषय रहा है। इस मुद्दे को लेकर हिंदूवादी संगठन हमेशा मुखर रहे हैं।दिवंगत दिलीप सिंह जूदेव द्वारा इस विषय को लेकर चलाया गया घर वापसी अभियान विश्व स्तर पर सुर्खियां बटोरा था।