CHHATTISGARH featured 

पटाखे / छत्तीसगढ़ में भी दिवाली की रात 8 से 10 बजे तक ही फोड़े जाएंगे पटाखे

  • सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद राज्य सरकार ने पटाखे फोड़ने का समय किया निर्धारित
  • ऑनलाइन पटाखा की बिक्री पर लगाई, आदेश को अमल में लाने प्रशासन ने भी कमर कसी

रायपुर .  छत्तीसगढ़ में दिवाली की रात 8 से 10 बजे के बीच सिर्फ दो घंटे ही पटाखे फोड़े जाएंगे। साथ ही लोग 125 डेसीबल ध्वनी क्षमता से नीचे के पटाखे फोड़ सकेंगे। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद राज्य सरकार ने इसके लिए समय निर्धारित किया है। राज्य में लड़ियों और प्रदूषण फैलाने वाले पटाखों को भी प्रतिबंधित कर दिया गया है। पर्यावरण संरक्षण मंडल के सदस्य सचिव सुनील मिश्रा ने भास्कर को यह जानकारी दी। मुख्य निर्वाचन अधिकारी सुब्रत साहू का कहना है कि यह आयोग के दायरे में नहीं आता।

इसके लिए कलेक्टर अधिकृत किए गए हैं। सचिव सुनील मिश्रा बताया कि सुप्रीम कोर्ट ने 23 अक्टूबर को अपने आदेश में दिवाली पर सिर्फ दो घंटे ही पटाखे फोड़ने की अनुमति दी है। लेकिन समय निर्धारित करने का अधिकार राज्य सरकारों को दिया है। ऑनलाइन पटाखा की बिक्री पर रोक के आदेश का पालन राज्य में भी किया जाएगा। इसके लिए प्रशासनिक स्तर पर तैयारी पूरी कर ली गई है।

आज से शुरू होगी निगरानी: आदेश को अमल में लाने प्रशासन ने भी कमर कस ली है। स्थानीय स्तर पर कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में संयुक्त निगरानी दलों का गठन किया गया है।पुलिस प्रशासन और पर्यावरण संरक्षण मंडल संयुक्त रूप से दिवाली के एक हफ्ते पहले और हफ्तेभर बाद तक नियमित रूप से ध्वनि प्रदूषण की जांच करेगा।  तय समय सीमा के बाद भी अगर कोई पटाखे फाेड़ते दिखता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। हलांकि अब तक उत्पादित सामान्य पटाखे राज्य में फोड़े जा सकेंगे।

 

रायपुर के अलावे बिलासपुर, रायगढ़, कोरबा और भिलाई नगर में होगी मॉनिटरिंग : इसके अलावा ध्वनि प्रदूषण की जांच को लेकर भी निर्देश जारी कर दिए गए हैं। रायपुर, बिलासपुर, रायगढ़, कोरबा और भिलाई नगर में वायु प्रदूषण और पर्यावरण की मॉनिटरिंग की जाएगी। निर्धारित मानकों के अलावा वातावरण में एल्युमिनियम, बेरियम और लौह तत्वों की मात्रा का भी आंकलन किया जाएगा।

दीपावली के समय थाना प्रभारी अपने-अपने इलाकों में पेट्रोलिंग कर निगाह रखेंगे। रात 10 बजे के बाद पटाखा फोड़ने वालों पर राजस्व विभाग, नगर निगम, स्थानीय निकाय और उस क्षेत्र के थाना प्रभारी के संयुक्त निगरानी दल द्वारा कार्रवाई की जाएगी।

दल के अधिकारी केंद्र सरकार के विस्फोटक नियंत्रक के साथ विभिन्न पटाखों के बड़े वितरकों के यहां आकस्मिक निरीक्षण भी करेंगे। सीरीज वाले पटाखों और लड़ियों को जब्त किया जाएगा। विस्फोटक नियंत्रक तथा स्थानीय शहरी निकाय द्वारा पटाखों के ऐसे निर्माताओं के लाइसेंस निरस्त किए जाएंगे।

Related posts