Thu. Nov 14th, 2019

दंतेवाड़ा विधानसभा सीट पर उपचुनाव के लिए आज सुबह 7 बजे से मतदान जारी है, नक्सल प्रभावित 10 में से 8 बूथों पर एक भी वोट नहीं

  • जिले के 273 पोलिंग बूथों पर सुबह 7 बजे से मतदान जारी
  • 1.88 लाख से ज्यादा मतदाता करेंगे अपने अधिकार का इस्तेमाल
  • धुर नक्सल प्रभावित क्षेत्र इंद्रावती नदी पार के 4500 मतदाता भी शामिल

दंतेवाड़ा. छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा विधानसभा सीट पर उपचुनाव के लिए सोमवार सुबह 7 बजे से मतदान जारी है। इस बीच नक्सलियों ने एक बार फिर चुनाव में व्यवधान डालने का प्रयास किया, हालांकि उनकी साजिश को जवानों ने नाकाम कर दिया है। कटेकल्याण क्षेत्र मेंं परचेली पोलिंग बूथ से करीब 200 मीटर दूर आईईडी विस्फोटक बरामद किया गया। हालांकि नक्सल प्रभावित 10 पोलिंग बूथों में से 8 पर अभी तक एक भी वोट नहीं पड़ सके हैं। 

चुनाव अपडेट 

  • दंतेवाड़ा में सुबह 11 बजे तक 21 फीसदी मतदान हुआ है। सुबह के दो घंटे धीमी रफ्तार रहने के बाद अब शहरी क्षेत्र के लोगों ने भी मतदान करना शुरू किया। वहीं नक्सल प्रभावित 10 बूथों में से 8 पर अभी तक एक भी वोट नहीं पड़ा है। 
  • भाजपा प्रत्याशी ओजस्वी मंडावी ने थोड़ी देर पहले ही गदापाल स्थित पोलिंग बूथ पर किया मतदान। 
  • सुबह 9 बजे तक दंतेवाड़ा उपचुनाव में 11.71 प्रतिशत मतदान हो चुका है। उपचुनाव के लिए अपराह्न 3 बजे तक ही मतदान होगा। 
  • भाजपा प्रत्याशी ओजस्वी मंडावी अभी तक मतदान नहीं कर सकी हैं। उन्हें गदापाल में बने पोलिंग बूथ पर मतदान करना है। ओजस्वी का आरोप कि सुरक्षा कारणों के चलते वह अब तक मतदान नहीं कर सकी हैं।
  • मतदान केंद्र क्रमांक 4- चेरपाल, मतदान केंद्र क्रमांक 6- पाहुरनार के मतदाता इंद्रावती नदी पार कर छिंदनार में स्थापित  किए गए पोलिंग बूथ पर मतदान करने पहुंच रहे हैं।
  • दंतेवाड़ा विधानसभा क्षेत्र 88 में 9 बजे तक 11.71 प्रतिशत मतदान हुआ है।
  • कटेकल्याण क्षेत्र मेंं परचेली पोलिंग बूथ से करीब 200 मीटर दूर मिली आईईडी विस्फोटक। पोलिंग को प्रभावित करने नक्सलियों की कोशिश नाकाम। 
  • फरसापाल के बूथ क्रमाक -2 में कांग्रेस प्रत्याशी देवती कर्मा के बेटे छविंद्र कर्मा ने मतदान किया। छविंद्र कर्मा ने कहा कि ग्रामीण इलाकों के विकास के लिए 15 साल तक भाजपा ने कुछ नहीं किया है। भूपेश सरकार के कामकाज के बूते पार्टी जीतेग। उन्होंने कहा कि 3 दिन में कांग्रेस ने बढ़त बना ली है।
  • देवती कर्मा ने अपनी बेटी तुलिका कर्मा के साथ डाला वोट। मतदान के बाद देवती ने कहा- नक्सल पहले भी था, अब भी है। आगे भी रहेगा। इसको खत्म करना मुश्किल। 
  • मां दंतेश्वरी मंदिर में दर्शन के लिए पहुंची भाजपा प्रत्याशी ओजस्वी मंडावी और कांग्रेस प्रत्याशी देवती कर्मा। दर्शन और पूजन के बाद देवती कर्मा ने फरसपाल बूथ पर परिवार के साथ मतदान किया। 
  • फरसापाल के बूथ क्रमाक -2 में सुबह से मतदान शुरू नहीं हो सका, जिसके चलते ग्रामीण एक घंटे तक परेशान रहे। इसी मतदान बूथ पर कांग्रेस प्रत्याशी देवती कर्मा मतदान करेंगी। 
  • कटेकल्याण थाना क्षेत्र के चिकपाल पोलिंग बूथ के पीठासीन अधिकारी चंद्रप्रकाश ठाकुर की हार्टअटैक से मौत, सुबह अचानक बिगड़ गई थी तबीयत। गीदम के रहने वाले थे चंद्रप्रकाश ठाकुर।

नक्सल प्रभावित इंद्रावती के घाटों पर 10 से ज्यादा मोटर बोट लगाई गई
लोकतंत्र के इस महापर्व में मतदाता अपने वोट की अहूति देने पोलिंग बूथ के बाहर कतार बद्ध तरीके से खड़े हुए है। कुआकोंडा, मोखपाल सहित नक्सल प्रभावित गांव गमावाड़ा और श्यामगिरी में जबरदस्त उत्साह है। इंद्रवती नदी पार के सारे पोलिंग बूथ को मुचनार और छिंदनार में शिफ्ट किया गया है।  इंद्रावती नदी के 3 घाटो में लगभग 10 से ज्यादा मोटर बोट, होम गार्ड और गोताखोरों की व्यवस्था गई है। हालांकि आयोग ने अतिसवेंदनशील 28 पोलिंग बूथों को शिफ्ट किया है।

कुल मतदान केंद्र273
संगवारी मतदान केंद्र10
अति संवेदनशील मतदान केंद्र157
संवेदनशील मतदान केंद्र89
सामान्य मतदान केंद्र31
कुल मतदाता188378 
पुरुष मतदाता89790 
महिला मतदाता98941

देवती कर्मा और ओजस्वी मंडावी में मुकाबला
दंतेवाड़ा उपचुनाव में एक निर्दलीय सहित 9 प्रत्याशी मैदान में हैं। हालांकि मुख्य मुकाबला कांग्रेस की देवती कर्मा और भाजपा की ओजस्वी मंडावी के बीच ही है। ओजस्वी जहां भाजपा के दिवंगत विधायक भीमा मंडावी की पत्नी हैं, वहीं देवती कर्मा पूर्व विधायक होने के साथ ही कांग्रेस के दिग्गज नेता रहे बस्तर टाइगर दिवंगत महेन्द्र कर्मा की पत्नी हैं। दोनों के पतियों ने नक्सली हमले में ही अपनी जान गंवाई है।

भीमा मंडावी पर हुआ था नक्सली हमला
लोकसभा चुनाव के दौरान मतदान से ठीक 48 घंटे पहले 9 अप्रैल को नक्सलियों ने विस्फोट कर भाजपा विधायक भीमा मंडावी की गाड़ी को उड़ा दिया था। इस विस्फोट में विधायक मंडावी की मौत के साथ ही उनके ड्राइवर और तीन जवान शहीद हो गए थे। बचेली से आगे मीटिंग में जाने के दौरान कुआकोंडा से पहले धमाका दंतेवाड़ा-सुकमा रोड पर नकुलनार में हुआ। विस्फोट इतना ज़बरदस्त था कि उनकी गाड़ी 200 मीटर दूर जा गिरी। इसके बाद नक्सलियों ने फायरिंग शुरू कर दी थी, जो कि करीब एक घंटे तक जारी रही थी।

You may have missed