Sat. Feb 16th, 2019

छत्तीसगढ़ / चौथी सीट पर सस्पेंस, एक अनार-सौ बीमार

रायपुर. राजधानी की एक सीट का सस्पेंस खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहा है। बीजेपी ने दूसरे चरण की सीटों को तय करते समय इस सीट को छोड़ दिया। अब सीट से नाम फाइनल नहीं हुआ तो नेताजी की धड़कन भी बढ़ गई। पहली बार श्रीचंद सुदरानी को सिंधी होने का फायदा मिला, टिकट और जीत दोनों मिली। इस बार भी उत्साहित थे, लेकिन अब हाव-भाव में निराशा नजर आ रही है। हालांकि अभी भी वे हर दरबार तक पहुंचने की कोशिश में जुटे हुए हैं।

 

दावेदारों में रायपुर महापौर रह चुके सुनील सोनी भी हैं। वे छत्तीसगढ़ के चुनावी चाणक्य माने जाने वाले बृजमोहन अग्रवाल के करीबी भी माने जाते हैं। हालांकि, दूसरी तरफ इस सीट के स्वाभाविक दावेदार रहे और आरडीए की जिम्मेदारी संभाल रहे संजय श्रीवास्तव पहले ही जोर लगा रहे हैं। इधर पर्यटन मंडल में दायित्व संभाल रहे केदार गुप्ता ने भी दावेदारी ठाेक रखी है। इतने दावेदारों के बीच निर्णय लेने में देर होना लाजमी है।