कोरोना के नए स्वरूप ओमीक्रोन के नए-नए लक्षण सामने आ रहे हैं। समय रहते इनकी पहचान जरूरी है। ओमीक्रोन संक्रमण सांस के अलावा पेट को भी प्रभावित कर सकता है। विशेषज्ञों की मानें तो अगर आपको बिना बुखार के उल्टी, जी मिचलाना और पेट दर्द जैसी दिक्कत महसूस हो रही है तो यह ओमीक्रोन का संक्रमण हो सकता है। इसके अलावा श्वसन संबंधी लक्षणों या बुखार के बिना भी पेट में समस्या है तो बिना देर किए कोरोना की जांच करवा लेनी चाहिए।

ज्यादातर लोगों में पेट खराब होने की समस्या
नए स्ट्रेन में ज्यादातर लोगों में पेट खराब होने की समस्या पाई जा रही है। कोरोनारोधी टीके की पूरी खुराक ले चुके लोगों में भी ये लक्षण पाए जा रहे हैं। कोरोना के कुछ नए लक्षणों में मितली, पेट में दर्द, उल्टी, भूख न लगना और दस्त जैसे लक्षण शामिल हैं।

गुरुग्राम के फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट के निदेशक डॉ. मनोज गोयल का कहना है कि कुछ लोगों को शुरुआत में बिना सर्दी-जुकाम के सिर्फ पेट में दिक्कत महसूस हो सकती है। इसमें पीठ दर्द, पेट में दर्द, मितली, उल्टी, भूख न लगना और दस्त जैसे लक्षण शामिल हैं।

पेट के ऊपर की पतली परत म्यूकोसा हो जाती है संक्रमित 
ओमीक्रोन की वजह से पेट के ऊपर की पतली परत म्यूकोसा संक्रमित हो जाती है। इसकी वजह से सूजन आ जाती है। टीके की दोनों खुराक ले चुके लोग भी पेट से जुड़ी इन दिक्कतों के साथ आ रहे हैं। हालांकि, ये लक्षण गंभीर नहीं हैं और चिंता की कोई बात नहीं है।

लापरवाही न करें
विशेषज्ञों का कहना है कि पेट में दर्द, जी मिचलाना और भूख ना लगने को सामान्य संक्रमण की तरह नहीं लें। अगर आपमें ये लक्षण हैं, तो खुद को तुरंत पृथक कर लें। बिना डॉक्टर के खुद से कोई दवा ना लें। खुद को ऊर्जावान रखें। हल्का खाना खाएं और पूरी नींद लें। इस दौरान मसालेदार खाने और शराब से बिल्कुल दूर रहें। हल्के लक्षणों से घबराने की कोई जरूरत नहीं है।

इन बातों का ध्यान रखें 
– ओमीक्रोन से संक्रमित मरीजों को साफ-सफाई का पूरा ध्यान रखना चाहिए। 
– संक्रमितों का भोजन एकदम ताजा होना चाहिए ।
– लोगों के साथ मिल-बांटकर खाने से बचना चाहिए।  
– खाना खाने से पहले सभी फलों को अच्छे से धोना चाहिए। 
– बाहर का खाना खाने से बचना चाहिए।  
– भले ही टीके की पूरी खुराक ले चुके हों पर कोविड प्रोटोकॉल का पूरी तरह पालन करना चाहिए। 
– एकांतवास की अवधि पूरी हो जाने के बाद ही अपने कमरे से बाहर निकलना चाहिए ।