म्यूचुअल फंड में निवेश करने का तरीका बदल गया है, अब लोग म्यूचुअल फंड में निवेश सिर्फ टैक्स बेनिफिट के लिए नहीं करते। म्यूचुअल फंड में निवेश दूसरे विकल्पों की तुलना में अधिक रिटर्न दे रहे हैं। लंबे समय में निवेश बढ़ने के साथ म्यूचुअल फंड टैक्स देनदारी को भी कम करने में मदद करते हैं। साल की शुरुआत के साथ टैक्स सेविंग स्कीम की खोज भी शुरू हो गयी है। विशेषज्ञों का कहना है कि इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम या ईएलएसएस फंड उच्च जोखिम वाले लोगों के लिए अच्छी योजना है क्योंकि यह आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के तहत कर लाभ के साथ अच्छा रिटर्न भी देते हैं।

योजना में निवेश इक्विटी बाजार में
इस योजना के तहत बचत को इक्विटी बाजारों में निवेश किया जाता है। ईएलएसएस एक डायवर्सिफाइड इक्विटी म्यूचुअल फंड है, जिसे आमतौर पर निवेशक टैक्स बचाने के लिए देखते हैं। ईएलएसएस योजना के तहत, फंड के एसेट का कम से कम 65 प्रतिशत शेयर बाजार में निवेश किया जाता है। निवेश किए गए फंड विविध हैं और विभिन्न क्षेत्रों, मार्केट कैप, थीम और उद्योगों में निवेश किए जाते हैं। एक्सपर्ट का कहना है, लंबी अवधि के निवेशकों को इक्विटी में निवेश करते समय बाजार की अस्थायी गतिविधियों को नजरअंदाज करना चाहिए। म्यूचुअल फंड में निवेश करने का समय हमेशा सही समय होता है। जो लोग छोटी अवधि में ज्यादा रिटर्न चाहते हैं, उन्हें यह ध्यान रखना चाहिए कि शार्ट टर्म में बाजार तेजी से बदलता है।

3 साल की लॉक-इन अवधि
इक्विटी से जुड़ी सेविंग स्कीम्स में 3 साल की लॉक-इन अवधि होती है। लॉक-इन अवधि के पूरा होने के बाद यदि आपका रिटर्न बाजार के खराब प्रदर्शन के कारण कम है, तो स्कीम से बिना बाहर निकले फंड जारी रख सकते हैं। जैसे ही बाजार बढ़ता है और योजनाओं का एनएवी (शुद्ध संपत्ति मूल्य) बढ़ता है, तब आप योजना से बाहर निकल सकते हैं। ध्यान रखें, ईएलएसएस एक बाजार से जुड़ा उत्पाद है, रिटर्न की गारंटी या आश्वासन नहीं है। इसलिए, किसी भी इक्विटी निवेश के समान, जब बाजार बेहतर स्थिति में हो तो योजना से बाहर निकलें।

लॉन्ग टर्म के लिए करें निवेश
उद्योग के विशेषज्ञों का कहना है कि ईएलएसएस फंडों में निवेश करने वाले व्यक्तियों को बाजार की अतीत या वर्तमान स्थिति के बारे में चिंतित नहीं होना चाहिए। लंबे समय में, निवेशित रहने पर निवेशकों को अच्छा रिटर्न मिलता है, साथ ही टैक्स बचत के रूप में अग्रिम लाभ भी मिलता है। यदि आप ईएलएसएस में निवेश करने की योजना बना रहे हैं, तो आप सीधे किसी फंड हाउस से या ऑनलाइन म्यूचुअल फंड वितरक प्लेटफॉर्म के माध्यम से कर सकते हैं।

ईएलएसएस फंड में किन बातों को ध्यान में रखें
निवेश के समय ईएलएसएस फंड चुनना भी बहुत महत्वपूर्ण है। ध्यान रखें कि एक ईएलएसएस फंड आपकी जोखिम लेने की क्षमता और वित्तीय लक्ष्य के अनुरूप होना चाहिए। ईएलएसएस फंड चुनते समय स्टॉक कंसंट्रेशन, विविधीकरण, पोर्टफोलियो की मार्केट कैप संरचना, व्यय अनुपात जैसे पैरामीटर पर अच्छे से ध्यान देना चाहिए। एक्सपर्ट के मुताबिक, नए निवेशक को स्वयं निर्णय नहीं लेना चाहिए। इसलिए, बाजार को मात देने के लिए अच्छा रिकॉर्ड रखने वाले वित्तीय योजनाकार या सलाहकार की मदद लेना बेहतर है।