रायगढ़ 13 जनवरी 2022:- “जल ही जीवन है” कहावत का अर्थ यही होता है कि जल के बिना जीवन संभव नहीं लेकिन फिर भी हम इसके महत्व को गंभीरता से नहीं लेते और व्यर्थ है। उसको बर्बाद करने से नहीं चूकते। चाहे वह अनजाने में हो या जानबूझकर। पानी का मूल्य तभी समझ आता है जब उसके लिए अथक प्रयास करने के बावजूद भी प्राप्त नहीं होता, लेकिन जब मिल जाता है तो उसका मूल्य हम कुछ नहीं समझते हैं।

पानी की बर्बादी एकल हो या सामूहिक बर्बादी तो बर्बादी है। चाहे घर में हो या सरेआम। कई दिनों से ऐसा ही नजारा रायगढ़ नगर निगम के वार्ड क्रमांक 1 स्थित जल आवर्धन योजना पानी टंकी में देखने को मिल रहा है। जहाँ पानी टंकी की क्षमता से ज्यादा पानी भरने के वजह से पानी ओवरफ्लो होकर बह रहा है। जिससे हजारों लीटर फिल्टर पानी बर्बाद हो रहा है। और पानी को फिल्टर करने में लगने वाले लागत मूल्य की भी हानि हो रही है। निगम प्रशासन इसको गंभीरता से ध्यान दें और इस जीवनदायिनी पानी की बर्बादी को रोके।

देखें वीडियो कैसे बर्बाद हो रहा है हजारों लीटर पानी:-