रायगढ़ 09 जनवरी 2022:- रायगढ़ की धरती संस्कार, संस्कृति की धरती है। यहाँ से कला के क्षेत्र में बड़े-बड़े महारथी निकले हैं। जिन्होंने अपनी कला के माध्यम से रायगढ़ जिले के साथ-साथ छत्तीसगढ़ का भी मान बढ़ाया है। जैसे कलाविद राजा चक्रधर, वेदमणि सिंह ठाकुर, रायगढ़ इप्टा के अजय आठले। इस रायगढ़ की मिट्टी में कुछ ख़ास बात है जो आज भी यहाँ के बच्चे भी अपने बड़ों के नक्शे कदम पर चलकर अपनी कला का लोहा प्रदेश के साथ-साथ अन्य प्रदेशों में मनवा रहे हैं, पुरस्कार जीतकर आ रहे हैं और अपने माता-पिता, गुरुओं के साथ रायगढ़ का मान बढ़ा रहे हैं।

उसी का ताजातरीन उदाहरण 13वें कटक राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय महोत्सव जो कि हर साल बड़े वृहद रूप में ओडिशा के कटक शहर में मनाया जाता है। इस साल भी कटक के सरला भवन में भव्य रूप से मनाया गया। जहाँ रायगढ़ शहर की होनहार बेटियों, कु. रिद्धि कोशले को प्रथम (सब जूनियर कैटेगरी) एवं कु रिद्धि साहू को द्वितीय (जूनियर कैटेगरी) में स्थान प्राप्त हुआ है। जहाँ कु.रिद्धि कोशले ने 6 साल की उम्र में अक्टूबर 2018 में दुर्ग इंटरनेशनल क्लासिकल नृत्य महोत्सव में प्रथम स्थान प्राप्त कर शहर को गौरवान्वित कर चुकी है। 2019 के जनवरी माह में कटक इंटरनेशनल नृत्य महोत्सव में भी प्रथम स्थान प्राप्त कर अपने परिवार के साथ शहर को गौरवान्वित किया। उसके बाद कु. रिद्धि कोशले का चयन 2020 के मई में होने वाले दुबई इंटरनेशनल नृत्य महोत्सव के लिए हो गया था, लेकिन कुछ औपचारिकता और कोविड-19 के कारण उसमें शामिल नहीं हो पाई।

ये दोनों बच्चियाँ पिछले 3 सालों से दीपिका नृत्त्यालय की छात्रा हैं, एवं वे भरतनाट्यम नृत्य का प्रशिक्षण ले रही हैं। रायगढ़ की ये बेटियाँ राष्ट्रीय स्तर पर कई बार अपना परचम लहरा चुकी हैं। इनके गुरु, डॉ. दीपिका सरकार का कहना है कि, बच्चे बहुत ही मेहनती हैं। इनकी सफलता इनके परिवार का साथ और इनके कठिन रियाज़ का ही फल है। हम रायगढ़ के इन दोनों बेटियों के उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हुए बधाई देते है, कि इसी प्रकार अपने लक्ष्य की ओर अग्रसित होते रहे।