सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के चीफ जस्टिस एन वी रमण (N V Raman) ने कहा कि लोग आपसी विवादों को सुलझाने के लिए पहले मध्यस्थता केंद्रों की मदद लें. जब वहां पर बात न बनें तो ही कोर्ट में जाने का विकल्प चुनें.