राहु की रेखाओं को हस्तरेखा विज्ञान में शुभ नहीं माना गया है, लेकिन राहु पर्वत की अच्छी स्थिति व्यक्ति को जीवन में अच्छे परिणाम देती है। हाथ में राहु पर्वत मस्तिष्क रेखा के नीचे तथा शुक्र एवं चंद्र पर्वत के बीच में स्थित होता है। भाग्य रेखा राहु पर्वत से ही होकर भाग्य स्थान शनि पर्वत तक पहुंचती है। जानिए राहु पर्वत शुभ स्थिति में किस तरह के परिणाम देता है।

-हस्तरेखा विज्ञान के अनुसार राहु पर्वत का शुभ होना अच्छा माना गया है। यदि व्यक्ति के हाथ में राहु पर्वत विकसित है तो ऐसे लोग भाग्यवान होते हैं। ऐसे लोग धार्मिक प्रवृत्ति के होते हैं और समाज में प्रतिष्ठा पाते हैं। 
-यदि हाथ में राहु पर्वत विकसित हो, लेकिन इसी पर्वत पर भाग्य रेखा टूटी हुई तो इस तरह के लोग अपने जीवन में एक बार अप्रत्याशित सफलता पाते ही हैं। हालांकि गलत कामों में फंस ये लोग इस सफलता और संपत्ति को गंवा बैठते हैं।

दिसंबर में इन बड़े ग्रहों का होगा राशि परिवर्तन, इन 5 राशि वालों को होगा महालाभ

-यदि राहु पर्वत हथेली के बीचोबीच स्थित हो इस तरह के लोग अपने यौवन काल में गल कार्यों में फंस जाते हैं और बदनामी पाते हैं। 
-यदि व्यक्ति के हाथ में राहु पर्वत नहीं हैं। भाग्य रेखा भी राहु पर्वत पर आकर टूट जाए तो इस तरह के लोग भिखारी जैसा जीवन जीते हैं। 
-राहु पर्वत का पूरी तरह से विकसित होना और इस पर शुभ लक्षणों की मौजूदगी अच्छी मानी गई है। ऐसे लोगों का भाग्य हमेशा साथ देता है और अचानक धन को पाते हैं। 
-राहु पर्वत पर नक्षत्र का निशान व्यक्ति को अचानक धन दिलाता है।
 (इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं तथा इन्हें अपनाने से अपेक्षित परिणाम मिलेगा। जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)