राजधानी दिल्ली के द्वारका इलाके में एक महिला से बलात्कार और हत्या के मामले का खुलासा करते हुए पुलिस ने आरोपी एक 17 वर्षीय लड़के को गिरफ्तार किया है। आरोप है कि इस लड़के ने महिला की हत्या के बाद सबूत मिटाने के लिए उसके प्राइवेट पार्ट में आग लगा दी थी। इस मामले की जांच के दौरान करीब 2700 लोगों से पूछताछ की गई और अनेक सीसीटीवी कैमरों की फुटेज भी खंगाली गईं।

पुलिस ने बताया कि 15 नवंबर को दिल्ली पुलिस को सूचना मिली थी कि एक महिला का शव नाले के पास कूड़े में पड़ा है। पुलिस ने महिला के शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजकर घटना की जांच शुरू कर दी थी। जांच में पुलिस ने 17 नवंबर को हत्या के आरोप में आरोपी किशोर को गिरफ्तार किया था। बाद में पूछताछ के दौरान आरोपी ने पुलिस को बताया कि उसने महिला के साथ दुष्कर्म किया था। पकड़े जाने के डर से उसने उसका गला घोंट दिया और सबूत मिटाने के लिए उसके प्राइवेट पार्ट में आग लगा दी थी।

मृतक महिला कौन थी और कहां रहती थी, इसके बारे में पुलिस को काफी समय तक कुछ पता नहीं चला। इसके बाद विशेष टीम ने इस मामले की जांच शुरू की। मृतका की पहचान और आरोपी का सुराग लगाने के लिए मुखबिरों को भी काम पर लगाया गया। साथ ही पुलिस ने पीड़िता की फोटो अलग-अलग वॉट्सऐप ग्रुप पर भेजी। यह फोटो पीड़िता के परिवार तक भी पहुंच गई। इसके बाद महिला की पहचान हो सकी।

अब पुलिस ने एफआईआर में रेप की धाराएं भी जोड़ी हैं। हालांकि अभी तक पुलिस को पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट नहीं मिली है। इससे पहले आरोपी पर भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 302 (हत्या) और (201) के तहत अपराध के सबूत मिटाने का मामला दर्ज किया गया था। आगे की जांच की जा रही है।