एआईबीए मेंस वर्ल्ड चैंपियनशिप में भारत के लिए कम से कम एक मेडल पक्का हो गया है। डेब्यूटैन्ट आकाश कुमार ने 54 किलो वर्ग में रियो सिल्वर मेडलिस्ट को हराकर सबको चौंका डाला और सेमीफाइनल में जगह बनाते हुए भारत के लिए पहला मेडल पक्का कर दिया। आकाश ने वेनेजुएला के योएल फिनोल को 5-0 से हराया, इस 21 साल के आकाश के मुक्कों का योएल के पास कोई जवाब नहीं था।

आकाश ने जीत दर्ज करने के बाद कहा, ‘मेरी रणनीति थी कि जैसे ही मुकाबला शुरू हो मैं अटैक करना शुरू कर दूं। मैं इस तरह से पहले राउंड से दूसरे राउंड में गया। मैंने अपने कट को बचाया।’ आकाश ने इसी सितम्बर में लंग इन्फेक्शन के चलते अपनी मां को खोया है। वह उस दौरान नैशनल चैंपियनशिप में हिस्सा ले रहे थे और उन्हें अपनी मां के निधन के बारे में पता भी नहीं था।

भारत के लिए यह टूर्नामेंट अभी तक कुछ खास नहीं रहा है। नरेंद्र बेरवाल, शिप थापा, निशांत देव और संजीत जैसे बड़े नाम पहले ही टूर्नामेंट से आउट हो चुके हैं। वर्ल्ड चैंपियनशिप आकाश का पहला सीनियर इंटरनैशनल टूर्नामेंट है। आकाश के पिता का भी निधन हो चुका है, जबकि 2017 से उनका भाई मर्डर केस में जेल में बंद है।