Share

Contents

  • 1 पदमासन करने के फ़ायदे और करने की सही विधि – Padmasana Benefits In Hindi
    • 1.1 पदमासन क्या है? What is Padmasana Yoga in Hindi?
    • 1.2 पदमासन  करने की उचित विधि – Right Steps to do Padmasana in Hindi
    • 1.3 पदमासन करने के 7 अद्भुत लाभ – 7 Amazing Padmasana Benefits In Hindi
      • 1.3.1 1. जोड़ों की मज़बूती – Padmasana Benefits (in Hindi) for Joints Strength
      • 1.3.2 2. बच्चे का जन्म – Padmasana during Childbirth
      • 1.3.3 3. इंसोम्निया – Padmasana Yoga ke fayde for Insomnia
      • 1.3.4 4. मेंस्ट्रुअल क्रेम्पस – Padmasana Benefits (in Hindi) for Menstrual Cramps
      • 1.3.5 5. पोस्चर – Padmasana Yoga ke fayde for Improving Body Posture
      • 1.3.6 6. पाचन शक्ति – Benefits Of Padmasana for Good Digestion
      • 1.3.7 7. श्वसन प्रणाली – Padmasana Benefits (in Hindi) Improving Respiratory Functions
    • 1.4 दिमागी क्षमता बढ़ाने के लिए करें पदमासन का अभ्यास – Padmasana Benefits In Hindi for Healthy Brain
    • 1.5 पदमासन के अभ्यास से जुड़ी कुछ सावधानियां और टिप्स – Precautions & Tips While Practicing Padmasana Yoga in Hindi
    • 1.6 हेल्थ और फिटनेस टिप्स फेसबुक ग्रुप
    • 1.7 अंत में
        • 1.7.0.1 Sweta Kishore
      • 1.7.1 शाम्भवी मुद्रा – कैसे करें और इसके लाभ: SHAMBHAVI MUDRA (IN HINDI)
      • 1.7.2 अश्वगंधा के फायदे – Ashwagandha Ke Fayde (in Hindi)
      • 1.7.3 ओट्स क्या हे और क्यों फायदेमंद हे – All About Oats in Hindi
      • 1.7.4 सूर्य नमस्कार करते वक़्त इन 5 गलतियों से बचें – Common Mistakes While Doing Surya Namaskar Poses
      • 1.7.5 Related

पदमासन करने के फ़ायदे और करने की सही विधि – Padmasana Benefits In Hindi

बैठ कर किये जाने वाले आसनों में से सर्वश्रेष्ठ, यह आसन आपको कई स्वास्थ्य और मानसिक लाभ प्रदान करता है। इसलिए आइये जानते हैं, पदमासन करने की उचित विधि एवं उससे होने वाले 7 हितकारी स्वास्थ्य लाभ– Padmasana Benefits in Hindi

प्राचीन काल से ऋषि-मुनियों द्वारा, तप करने के लिए इस आसन का अभ्यास किया जाता रहा है, जिसे पदमासन कहा जाता है।

हम में से कई लोग यह नहीं जानते हैं कि हमारी बैठने की मुद्रा, हमारे स्वास्थ्य और आंतरिक मन पर गहरा प्रभाव डालती है। हठ योग में वर्णित, यह आसन – पदमासन (Lotus Pose in Hindi), वर्षों से ध्यान (Meditation) करने का बोधक रहा है।

हिंदू धर्म में भगवान शिव, बौद्ध धर्म में महात्मा बुद्ध और जैन धर्म के तीर्थंकरों की मूर्तियों और प्रतिमाओं को पदमासन में बैठे हुए दिखाया जाता है। साथ ही इसे हर धर्म में स्वस्थ शरीर और एकाग्र मन का प्रतीक माना जाता है।

पदमासन में बैठने से आपके पैरों और कूल्हों का दर्द समाप्त हो जाता है, एवं यह आपके कई शारीरिक विकारों को दूर करने में लाभदायक माना जाता है।

तो आइए जानते हैं, क्या है पदमासन ?, इसे करने की विधि और इससे होने वाले 7 प्रभावशाली स्वास्थ्य लाभ – Padmasana Yoga  Ke Faydeपदमासन 

पदमासन क्या है? What is Padmasana Yoga in Hindi?

पदमासन शब्द, दो संस्कृत शब्दों से मिलकर बना है, पद्मा एवं आसन।

पदमा + आसन = पदमासन । संस्कृत में पद्मा शब्द का अर्थ होता है, कमल (Lotus) एवं आसन बैठने की मुद्रा अथवा अवस्था को कहा जाता। पौराणिक ग्रंथों में, कमल के फूल को शुभ सूचक और ज्ञान वर्धक माना जाता था।  

जिस प्रकार कमल का फूल कीचड़ में भी पानी के उपर बहुत खूबसूरती से खिलता है, उसी प्रकार पदमासन योग के अभ्यास से साधक को छल, कपट और द्वेष से भरे संसार में परम ज्ञान (Enlightenment) की प्राप्ति होती है। 

पैरों को मोड़कर बैठने वाले इस आसन के अभ्यास से इंसोम्निया, मेंस्ट्रुअल क्रेपम्स और जोड़ों के दर्द जैसी अनेक समस्याओं से मुक्ति मिलती है एवं यह आपकी एकाग्रता को भी बढ़ाने में मदद करता है।

पदमासन  करने की उचित विधि – Right Steps to do Padmasana in Hindi

Padmasana yoga in hindi-TopPaanch

पदमासन योग का अभ्यास दोनों पैरों को आपस में मोड़कर किया जाता है, जिसमें वे एक के उपर एक रखे होते हैं। यह हमारे रोजमर्रा के बैठने के तरीके से हल्का भिन्न और कठिन है।

हालांकि सजक प्रयास और नियमित अभ्यास के साथ आप इसे करना सीख सकते हैं।

आइये जानते हैं, क्या है पदमासन योग करने का सही तरीका – Padmasana Yoga Steps In Hindi

  1. सबसे पहले ज़मीन पर योगा मैट बिछाकर दंडासन में बैठ जाएं। अपने पैरों को मोड़ लें एवं रीढ़ की हड्डी को बिल्कुल सीधा कर लें।
  2. अब अपने दाहिने घुटने को मोड़ते हुए, पैरों को बाएं जांघ पर रखें। ऐसा करते वक़्त यह सुनिश्चित कर लें कि आपके तलवे की दिशा उपर हो और एड़ी पेट के पास हो।
  3. बाएं पैर को भी मोड़कर, इसी प्रकार दाहिने जांघ के ऊपर रख दें।
  4. जब आप पदमासन में बैठ जाएं तो अपने हाथों को घुटनों के ऊपर रखकर, ध्यान मुद्रा बना लें।
  5. अपने सिर को बिल्कुल सीधा रखें और सिर, गर्दन एवं रीढ़ की हड्डी को एक सीध में बनाए रखें।
  6. निरंतर गहरी सांस लें एवं छोड़ें। अपनी क्षमतानुसार, जितनी देर संभव हो, उतनी देर पदमासन में बैठने का प्रयास करें।

पदमासन करने के 7 अद्भुत लाभ – 7 Amazing Padmasana Benefits In Hindi

आइये जानते हैं, पदमासन  योग के अभ्यास से मिलने वाले 7 गुणकारी स्वास्थ्य लाभों के विषय में – padmasana ke fayde

1. जोड़ों की मज़बूती – Padmasana Benefits (in Hindi) for Joints Strength

Padmasana Benefits In Hindi-TopPaanch

पदमासन (Lotus Pose) योग में पैर एक-दूसरे के ऊपर मुड़े हुए होते हैं, जिससे जोड़ों में बहुत ही उत्तम खिंचाव उत्पन्न होता है। खिंचाव के कारण मांसपेशियां मज़बूत होती हैं और हड्डियों में लचीलापन आता है।

लंबे समय तक पदमासन के अभ्यास से जोड़ों की तकलीफ़ कम हो जाती है एवं वे प्रभावी रूप से कार्यशील हो जाते हैं। यह साइटिका (Sciatica) से पीड़ित मरीजों के लिए अत्यंत फायदेमंद साबित होता है एवं इसके नियमित अभ्यास से आप अपने जोड़ों को मज़बूत बना सकते हैं।

इसे भी पढ़ें:    Veerasana Benefits & Steps in Hindi – वीरासन योग, फ़ायदे और विधि

2. बच्चे का जन्म – Padmasana during Childbirth

बच्चे को जन्म देते वक्त माता को कोख में बहुत पीड़ा होती है। साथ ही कुछ मामलों में गर्भाशय की अवस्था के कारण, बच्चे की डिलीवरी में परेशानी आने की संभावना होती है। ऐसी स्थिति में महिलाओं को पदमासन का अभ्यास अवश्य करना चाहिए।

यह आसन श्रोणि (Pelvic Region) की मांसपेशियों को मज़बूत बनाता है और उन्हें स्थिरता प्रधान करता है। इसकी वजह से बच्चे को जन्म देने के वक़्त, दर्द और सिकुड़ाव घट जाता है, जिससे गर्भाशय और डिलीवरी में आने वाली परेशानियां काफ़ी कम हो जाती हैं।

इसे भी पढ़ें:   Yoga For Infertility in Hindi – गर्भधारण करने के लिए योग

3. इंसोम्निया – Padmasana Yoga ke fayde for Insomnia

Padmasana Yoga Ke Fayde-TopPaanch

पदमासन  का अभ्यास मन को शांत करता है और दिमाग को तनावमुक्त रखने में सहायता करता है। व्यस्तता के कारण, लोगों के लिए योग को अपनी जीवनशैली में शामिल कर पाना कठिन होता है।

इससे तनाव में वृद्धि होती है, थकान अधिक महसूस होती है और नींद न आने की समस्या बढ़ जाती है। हालांकि सुबह केवल 5 से 10 मिनट पदमासन का अभ्यास करने से व्यक्ति की थकान दूर हो जाती है, जिससे पूरे दिन फुर्ती से काम करने की शक्ति मिलती है।

यह इंसोम्निया की तकलीफ़ से राहत दिलाता है और आप रात में चैन और सुकून भरी नींद का आनंद ले पाते हैं।

इसे भी पढ़ें:    SUKHASANA YOGA BENEFITS IN HINDI – सुखासन योग के प्रभावशाली फायदे

4. मेंस्ट्रुअल क्रेम्पस – Padmasana Benefits (in Hindi) for Menstrual Cramps

पदमासन का अभ्यास महिलाओं के लिए बहुत फायदेमंद होता है। ज्यादातर महिलाओं को मासिक धर्म (Periods) के दौरान, मेंस्ट्रुअल क्रेम्पस (Menstrual Cramps) अथवा पेल्विक एरिया (Pelvic Area) की परेशानी से जूझना पड़ता है।

कई महिलाओं के लिए यह दर्द असहनीय और पीड़ादायक होता है। इससे निजाद पाने के लिए महिलाएं पदमासन का अभ्यास कर सकती हैं। इसके अभ्यास से पेट के निचले हिस्से में तनाव पैदा होता है, जोकि दर्द में मालिश की भांति कार्य करता है।

यह आसन श्रोणि को लचीलापन प्रदान करता है, जिससे मेंस्ट्रुअल क्रेम्पस की समस्या काफी हद तक कम हो जाती है।

इसे भी पढ़ें:      10 ARDHA CHAKRASANA (HALF WHEEL POSE) BENEFITS IN HINDI

5. पोस्चर – Padmasana Yoga ke fayde for Improving Body Posture

Padmasana Yoga Ke Fayde-TopPaanch

आपका अच्छा बॉडी पोस्चर (Body Posture) आपके व्यक्तित्व को निखारने का कार्य करता है। पदमासनमें शरीर की मुद्रा बिल्कुल सीधी और स्थिर होती है। रीढ़ की हड्डी, गर्दन और मस्तिष्क एक बराबर सीध में होते हैं।

लंबे समय तक इस आसन में बैठने से आप पाएंगे कि आपका पोस्चर स्वतः ही बेहतर होता जाएगा। आपका गर्दन अथवा पीठ, पहले की तुलना में झुके हुए या ढीले नजर नहीं आते और आपको पीठ दर्द की समस्या से भी राहत मिलती है।

इसे भी पढ़ें:   Vajrasana Yoga ke Fayde – वज्रासन के फायदे और करने का सही तरीका

6. पाचन शक्ति – Benefits Of Padmasana for Good Digestion

पदमासन योग के अभ्यास से पाचन शक्ति में सुधार आता है। हमारी पाचन शक्ति हमारे आंतरिक अंगों की कार्यक्षमता पर निर्भर करती है।

पदमासन के दौरान न सिर्फ पैरों की मांसपेशियों में खिंचाव उत्पन्न होता है, बल्कि यह पेट की मांसपेशियों पर भी समान रूप से दबाव डालता है, जिससे पेट के आंतरिक अंगों की मालिश होती है और आपकी पाचन शक्ति बेहतर हो जाती है।

साथ ही इसके अभ्यास से रक्त का संचालन पेट की ओर बढ़ता है, जोकि पाचन के लिहाज से काफ़ी अच्छा होता है। पदमासन के अभ्यास से आप अपच, कब्ज और लूज़ मोशन (Loose Motion) जैसी समस्याओं से आराम पा सकते हैं।

इसे भी पढ़ें:    अनुलोम विलोम करने का सही तरीका? Anulom Vilom Kaise Kare?

7. श्वसन प्रणाली – Padmasana Benefits (in Hindi) Improving Respiratory Functions

पदमासन की प्रक्रिया में श्वास की गति पर विशेष ध्यान दिया जाता है। इसे करने के दौरान, लंबी और गहरी सांसें ली जाती हैं, जिससे फेफड़ों में अधिक मात्रा में ऑक्सीजन पहुंचता है।

लगातार इसी प्रकार से श्वास लेने पर श्वसन प्रणाली सकारात्मक रूप से प्रभावित होती है और प्राणवायु रक्त कोशिकाओं द्वारा शरीर के हर अंग तक पहुंचती है।

इससे रक्त संचार भी बेहतर होता है और साथ ही हार्ट अटैक एवं (Heart Attack) स्ट्रोक्स (Strokes) आने की संभावना कम हो जाती है।

इसे भी पढ़ें:    Proven 21 Kapalbhati Benefits in Hindi – कपालभाति के सिद्ध फ़ायदे

दिमागी क्षमता बढ़ाने के लिए करें पदमासन का अभ्यास – Padmasana Benefits In Hindi for Healthy Brain

Padmasana Benefits In Hindi-TopPaanch

पदमासन का अभ्यास सदियों से दिमाग की शक्ति और क्षमता को बढ़ाने के लिए किया जाता रहा है। यह एकाग्रता, ध्यान, स्मरण शक्ति और सकारात्मकता को बढ़ाता है, जिससे व्यक्ति के भीतर मौजूद चिंता और तनाव दूर हो जाते हैं।

इसका अभ्यास ध्यान लगाते वक़्त करना, सर्वोत्तम माना जाता है क्योंकि इसके निरंतर अभ्यास से आपके चक्र जागृत हो सकते हैं। आप स्वयं को पहले से अधिक सक्रिय और ऊर्जावान अनुभव करते हैं।

मन के भीतर छुपा डर, भय एवं क्रोध समाप्त हो जाता है और आप पूरे उत्साह के साथ अपने सभी कामों को करते हैं।

इसे भी पढ़ें:      ज्ञान मुद्रा के के लाभ और करने का सही तरीका – Benefits of Gyan Mudra (in Hindi)

पदमासन के अभ्यास से जुड़ी कुछ सावधानियां और टिप्स – Precautions & Tips While Practicing Padmasana Yoga in Hindi

अभ्यास के पूर्व कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना बेहद ज़रूरी होता है, जिससे आपको किसी प्रकार की हानि न हो, एवं आप सही ढंग से अभ्यास कर पाएं।

पदमासन योग से जुड़े कुछ ज़रूरी टिप्स और सावधानियां, नीचे बताए गए हैं-

  • पदमासन एक ध्यान आसन है, जिसका अभ्यास सुबह करना सबसे अधिक फायदेमंद माना जाता है। हालांकि आप शाम में भी पदमासन का अभ्यास कर सकते हैं।
  • इसका अभ्यास खाली पेट में अथवा खाने के 4 से 5 घंटे बाद ही करना चाहिए। अभ्यास करने से पहले पेट अवश्य साफ़ कर लें।
  • इस आसन को करने के दौरान, घुटनों और एड़ियों में खिंचाव आता है। इसलिए जिन लोगों को घुटनों अथवा पैर में चोट लगी हो या गंभीर दर्द रहता हो, उन्हें पदमासन नहीं करने की सलाह दी जाती है।
  • अभ्यास के शुरुआती कुछ दिनों में पदमासन का अभ्यास किसी योग एक्सपर्ट के निरीक्षण में करना लाभकारी होता है।

हेल्थ और फिटनेस टिप्स फेसबुक ग्रुप

यह ग्रुप, स्वास्थ्य और फिटनेस उत्साही लोगों का एक सार्वजनिक समूह है जहां हम अपने नेटवर्क का विस्तार कर सकते हैं और एक दूसरे को अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने में मदद कर सकते हैं।

हमसे जुड़ें

अंत में

पदमासन (padmasana yoga in hindi) एक बहुत ही बेहतरीन ध्यान आसन है, जिसे अंग्रेजी में (Lotus Pose) कहा जाता है।

पदमासन की खूबी यह है कि इसके अभ्यास से न केवल शारीरिक विकारों से मुक्ति मिलती है, बल्कि साथ ही साथ यह आपके मानसिक विकारों अथवा दोषों को भी समाप्त कर देता है।

इस लेख में हमने पदमासन के लाभों के बारे में जाना (padmasana ke fayde) और इसे करने की सही क्रिया को भी समझा हे.

यदि आप जोड़ों के दर्द से पीड़ित हों या आप अपने मन को एकाग्र करने की कोशिश में लगे हों, पदमासन के अभ्यास से आप इन जैसी अनेक परेशानियों से छुटकारा पा सकते हैं।

इसके अलावा यह महिलाओं के मासिक धर्म में होने वाली परेशानियों को भी दूर करता है एवं बच्चे के जन्म में होने वाले दर्द को भी कम करने में मदद करता है। तेज़ दिमाग और स्वस्थ शरीर पाने के लिए आपको पदमासन का अभ्यास अवश्य करना चाहिए।

मुझे उम्मीद है की आपको ये लेख – Padmasana Benefits In Hindi – पदमासन करने के फ़ायदे और विधि ” पसंद आया होगा. नीचे लगे हुए बेल आइकॉन को क्लिक करना न भूलें. इससे कोई भी नयी लेख की जानकारी आपको नोटिफिकेशन के रूप में मिल जाएगी.

Sweta Kishore

Sweta Kishore

नमस्कार! मैं एक स्वास्थ्य और फिटनेस उत्साही हूं और आप सभी की तरह एक स्वस्थ जीवन शैली चाहती हूँ। इसी कारण एक स्वस्थ जीवन को पाने के लिए काफी कुछ सीखा हे मैंने जिसे में आप सब के साथ साझा करना चाहती हूँ. मुझे उम्मीद है कि आपको यह लेख पसंद आया होगा। नीचे टिप्पणी में आप सब की अनुभाग सुनने की में उम्मीद रखती हूँ।

shambhavi mudra in hindi-toppaanch

शाम्भवी मुद्रा – कैसे करें और इसके लाभ: SHAMBHAVI MUDRA (IN HINDI)

Ashwagandha ke fayde-toppaanch

अश्वगंधा के फायदे – Ashwagandha Ke Fayde (in Hindi)

Oats in Hindi-TopPaanch

ओट्स क्या हे और क्यों फायदेमंद हे – All About Oats in Hindi

Surya namaskar poses in hindi-toppaanch

सूर्य नमस्कार करते वक़्त इन 5 गलतियों से बचें – Common Mistakes While Doing Surya Namaskar Poses

Share