दुनियाभर में कोरोनावायरस का कहर लगातार जारी है और तीसरी लहर की चेतावनी के बीच सरकारें टीकाकरण अभियान पर जोर दे रही हैं। दुनियाभर के हेल्थ एक्सपर्ट्स भी लोगों से कोरोना की वैक्सीन लगवाने की अपील कर रहे हैं। भारत में कोरोनावायरस के खिलाफ टीकाकरण अभियान तेजी से चल रहा है। कोरोनावायरस की वैक्सीन को लेकर लोगों के मन में उठने वाले तमाम सवालों का जवाब भी स्वास्थ्य मंत्रालय हेल्थ एक्सपर्ट्स के जरिए दे रहा है। देश में अभी भी एक बड़ी आबादी है जिसे वैक्सीन का पहला डोज भी नहीं लगा है। हाल में अमेरिका के सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) ने कोरोना की वैक्सीन को लेकर की गयी स्टडी जारी की है। सीडीसी के द्वारा की गयी स्टडी के मुताबिक जिन लोगों को अभी तक कोरोना का टीका नहीं लगा है उन्हें इस घातक वायरस के संक्रमण से जान गंवाने का खतरा सबसे ज्यादा है। सीडीसी ने वैक्सीन को लेकर तीन अध्ययन किये हैं और इस अध्ययन में यह पाया गया है कि जिन लोगों ने अभी तक वैक्सीन नहीं लगवाई है उन्हें कोरोना का खतरा सबसे ज्यादा है।

वैक्सीन से अस्पताल में भर्ती होने का जोखिम कम

(image source – freepik.com)

सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन की रिपोर्ट के मुताबिक जिन लोगों को कोरोना की वैक्सीन के दोनों डोज लग चुके हैं उनके दोबारा संक्रमित होने पर अस्पताल में भर्ती होने का खतरा बहुत कम हो जाता है। वहीं सीडीसी ने इस अध्ययन में बताया है कि जैसे ही गर्मियों के शुरुआत में डेल्टा वैरिएंट का खतरा बढ़ा था उस समय भी ऐसे लोग इस संक्रमण की चपेट में ज्यादा आ रहे थे जिन्होंने कोरोना की वैक्सीन नहीं ली थी। ऐसे लोगों के संक्रमित होने की संभावना 4.5 गुना अधिक हो गयी थी। स्टडी की मानें तो वैक्सीन नहीं लगवाने वाले लोगों को अस्पताल में भर्ती होने का खतरा 10 गुना अधिक हो जाता है और संक्रमण से मौत का खतरा ऐसे लोगों में 11 गुना अधिक रहता है। जिन लोगों ने कोरोनावायरस के वैक्सीन की दोनों डोज ले ली है उन्हें संक्रमित होने का और अस्पताल में भर्ती होने का खतरा अन्य लोगों की तुलना में बेहद कम होता है।

इसे भी पढ़ें : स्टडी: कोरोना के मरीजों को अस्पताल में भर्ती होने से बचा सकती है ये एंटीबॉडी कॉकटेल

बुजुर्ग लोगों पर भी असरदार है कोरोना की वैक्सीन

सीडीसी की रिपोर्ट के मुताबिक कोरोनावायरस के खिलाफ लगाई जा रही वैक्सीन वृद्ध लोगों पर भी उतनी ही असरदार है। हालांकि सीडीसी द्वारा जारी किये गये एक और स्टडी के मुताबिक अधिक उम्र वाले लोगों को वैक्सीन लगने के बाद इसका असर 75 प्रतिशत ही रहता है। ऐसे लोग जो पुरानी बीमारी से पीड़ित हैं या जिन्हें कोई दूसरी समस्या है ऐसे लोगों को वैक्सीन लगने के बाद भी तमाम सावधानी बरतने की जरूरत है। सीडीसी द्वारा किये गए इस अध्ययन में अप्रैल से जुलाई के मध्य तक 13 राज्यों में 600,000 से अधिक कोरोनावायरस से संक्रमित मरीजों को मॉनिटर किया गया था। इस अध्ययन में कोरोना से संक्रमित होने वाले मरीजों, अस्पताल में भर्ती होने वाले लोगों और मौतों की भी निगरानी की गयी है।

CDC-Study-on-Coronavirus-Vaccine

(image source – freepik.com)

इसे भी पढ़ें : कैसे पहचानें नकली कोरोना वैक्सीन? केंद्र सरकार ने जारी की असली वैक्सीन की पहचान से जुड़ी गाइडलाइंस

वैक्सीन है सबके लिए सुरक्षित

देश में 16 जनवरी से कोरोनावायरस के खिलाफ टीकाकरण अभियान चल रहा है। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी दिशानिर्देशों के अनुसार पूरे देश में तेजी से टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है। कोरोनावायरस के खिलाफ लगने वाली सभी वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित है इस बात को लेकर समय-समय पर सरकार और हेक्थ एक्सपर्ट्स द्वारा जानकारी भी दी जा रही है। सीडीसी द्वारा जारी रिपोर्ट की बात करें तो ऐसे लोग जिनकी उम्र 65 साल से अधिक है और उन्हें वैक्सीन की दोनों डोज लग चुकी है उन्हें इस वायरस से संक्रमित होने का खतरा 80 फीसदी कम बताया जा रहा है। वहीं ऐसे लोग जिनकी उम्र 18 से 64 साल के बीच है उन्हें वैक्सीन का दोनों डोज लगने के बाद संक्रमण का खतरा 95 फीसदी कम है। सीडीसी के निदेशक रोशेल वालेंस्की के मुताबिक, ‘वैक्सीन को लेकर किये गए कई अध्ययनों से यह पता चल रहा है कि वैक्सीन सभी के लिए सुरक्षित और प्रभावी है’।

वैक्सीनेशन को लेकर क्या है देश की स्थिति?

भारत में कोरोनावायरस के खिलाफ तेजी से वैक्सीनेशन प्रोग्राम चलाया जा रहा है। देशभर में तक तक वैक्सीन का कवरेज 75 करोड़ के आसपास है। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी ताजा आंकड़ों के मुताबिक देश में 6 ऐसे राज्य और केंद्र शासित प्रदेश हैं जहां पर 100 प्रतिशत पात्र लोगों को वैक्सीन का पहला डोज दिया जा चुका है। इन राज्यों में गोवा, लद्दाख, दादरा और नगर हवेली, दमन-दीव, हिमांचल प्रदेश, लक्षदीप और सिक्किम शामिल हैं। सरकार द्वारा जारी कोविन पोर्टल के मुताबिक देश में अबतक  56.51 करोड़ लोगों को वैक्सीन का पहला और लगभग 17,77 करोड़ आबादी को वैक्सीन का दूसरा डोज दिया जा चुका है। सरकार जल्दी से ज्यादा से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लगाने के अभियान पर काम कर रही है।

(main image source – freepik.com)

Read More Articles on Health News in Hindi