डेंगू मुक्त शहर के लिये निगम के स्वास्थ्य प्रभारी संजय देवांगन ने किए सार्थक प्रयास

रायगढ़ 14 सितंबर 2021:- रायगढ़ जिला कलेक्टर भीम सिंह के मार्गदर्शन में डेंगू पीलिया से बचाव, तम्बाखू नियंत्रण एवं राष्ट्रीय स्वास्थ्य कार्यक्रमों में नगरीय निकाय के जनप्रतिनिधियों का एक दिवसीय उन्मुखीकरण कार्यशाला आयोजित किया गया। जिसे वार्ड क्रमांक 6 के पार्षद एवं एम आई सी सदस्य स्वास्थ्य प्रभारी संजय देवांगन के प्रयास से आयोजित किया गया। जिसमें नगर निगम के महापौर, नेता प्रतिपक्ष, पार्षद, एल्डरमेन एवं निगम के अधिकारी कर्मचारी तथा स्वास्थ्य विभाग से सी एच एम ओ समेत डॉक्टर अधिकारी कर्मचारी उपस्थित रहे।

सर्वप्रथम स्वास्थ्य विभाग से सी एच एम ओ एस एन केसरी, डॉक्टर राकेश वर्मा एवं डॉक्टर टोंडर तथा उपस्थित डॉक्टरों ने बताया कि राष्ट्रीय तम्बाखू नियंत्रण कार्यक्रम जिला स्तरीय प्रशिक्षण के तहत तम्बाखू का सेवन हमारे लिये कितना घातक है, बताया गया। साथ ही सार्वजनिक स्थलों में अधिनियम के तहत अवैध बिक्री, उसका उपयोग करने वालों के लिए कार्यवाही कौन कर सकता है, और कितना फ़ाईन लिया जाता है, बताया गया। वही उन्होंने बताया कि जागरूकता के उद्देश्य से यलो लाइन केम्पेन चलाया गया। जिसमें यलो राइटिंग से सड़कों में तम्बाखू निषेध लिखा गया। जिसे देखकर शाहरवासियों में कौतूहल भी रहा।

तत्पश्चात डेंगू रोकथाम पर चर्चा की गई। विगत वर्षों के संक्रमित क्षेत्र और मरीजों के संख्या पर बात हुई ही, वर्तमान स्थिति पर गौर करते हुए बताया गया कि अब तक जिले में 14 और शहर में 11 डेंगू के मरीज मिले हैं, जो बाहर से आने वाले हैं। किन्तु क्षेत्र में संक्रमितों को देखते हुए सतर्कता के साथ कार्ययोजना बनाकर कार्यो का संपादन करना बताया गया। आगामी 15 सितंबर से 15 नवम्बर तक मच्छर एक्टिव पाए जाते है इसलिये सतर्क रहना अतिआवश्यक है। बताया जाता है एक बार संक्रमित होने के बाद प्रतिरोधक क्षमता में कमी आ जाती है। इसलिये बगैर डेंगू मच्छर के काटे पुनः संक्रमित होने का खतरा होता है।

कार्यशाला में चर्चा के दौरान स्वास्थ्य विभाग ने डेंगू फैलने से लेकर उसके उपाय हेतु सावधानियां तक बताई। तो वही जनप्रतिनिधियों ने भी अपने-अपने सुझाव दिए, जिसमें महापौर जानकी काटजू ने स्वास्थ्य विभाग के द्वारा डेंगू मुक्त शहर के लिये चलाए जा रहे कार्यक्रम की प्रशंसा करते हुए कहा कि बारिश से पूर्व ही नगर निगम की टीम वार्डो में स्वच्छता और साफ सफाई तथा दवा छिड़काव कराना आरम्भ कर चुकी है। जिसके कारण अब तक डेंगू के स्थानीय मरीज नहीं मिले हैं। फिर भी हम सभी को सतर्क रहकर घर में जमे हुए पानियों को साफ करते रहना है। साथ ही तम्बाखू और नशा के नियंत्रण के लिये सबसे पहले बच्चों को मॉनिटरिंग किया जाना चाहिए।

वही नेता प्रतिपक्ष पूनम सोलंकी ने बताया कि डेंगू को फैलने से रोकने हेतु फॉगिंग में तेजी लानी होगी। अभी 1 वार्ड में दोबारा फॉगिंग के लिये 10 दिन का समय लग रहा है। वरिष्ठ पार्षद सुभाष पांडेय ने कहा कि वर्तमान में कचरा डंपिंग स्थान से डेली उठाव नहीं हो रहा है, जबकि गली मोहल्ले घर के कचरे हर दिन उठाए जाने चाहिए। साथ ही गमले, टायर, पॉलीथिन में जमे हुए पानी की सफाई करते रहना होगा। तब हम डेंगू को मात दे पाएंगे।
पार्षद शीनु राव ने कहा कि घर और परिवार से स्वच्छता और सफाई को आरम्भ किया जाए। उसके बाद गली वार्ड और शहर। हम स्वच्छ रहना सीखेंगे तब दूसरे को सिखा पाएंगे। हम घर से ही पानी जमाव को साफ करना शुरु करे और वार्ड में भी लोगों को जागरूक करें।
पार्षद अशोक यादव ने कहा कि मच्छरदानी का उपयोग होना चाहिए और जमे पानी को विशेष रूप से सफाई होनी चाहिए। पार्षद नारायण पटेल ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग की टीम सभी वार्ड में जाए पार्षदों से मिलकर जागरूकता कार्यक्रम कराए। ताकि वार्डवासी पार्षद को देखकर अभियान का हिस्सा बने और एक से दो और दो से तीन होकर पूरा शहर एक हो जाए।

जिला कांग्रेस कमेटी के प्रभारी महामंत्री शाखा यादव ने कहा कि विशेषज्ञों के अनुसार इस वर्ष भी डेंगू का कहर होगा। जिस तरह से निगम और स्वास्थ्य विभाग प्रयास कर रही है उसमें आम जनता को कैसे शामिल करें इसका योजना बनाना होगा। उसी तरह नशा तम्बाखू नियंत्रण के लिये बच्चों के स्कूल समीप ठेले वालों पर, बिना प्रिस्किपसन के इंजेक्शन और नशे की गोलियों की बिक्री पर लगाम कसने कार्यवाही होनी चाहिए ।
वही अन्य जनप्रतिनिधियों में पार्षद विकास ठेठवार, अशोक यादव, रमेश भगत, संजय चौहान, राघवन रंजीत सिंह, श्यामलाल साहू, ईशकृपा तिर्की, नीलम रंजू संजय,
एल्डरमेन चंद्रशेखर चौधरी, वसीम खान, गुल्ली शुक्ला, विज्जु ठाकुर ने अपने-अपने विचार व्यक्त किये।

अंत मे स्वास्थ्य प्रभारी संजय देवांगन ने आभार प्रकट करते हुए कहा कि आज के बैठक में आप सभी के विचार और सुझाव प्राप्त हुए हैं। जिसे स्वास्थ्य विभाग और नगर निगम जे संयुक्त प्रयास से धरातल में लाकर अमली जामा पहनाया जाएगा और डेंगू तथा तम्बाखू मुक्त शहर की परिकल्पना को साकार करने कार्ययोजना तैयार कर आप सभी के सहयोग से विशेषकर आमजनमानस को विश्वास में लेकर जागरूकता अभियान निरंतर चलाया जाएगा। आने वाले समय में हमारा शहर पूर्ण टिकाकरण शहर की भांति डेंगू से पूर्ण सुरक्षित शहर बन जाएगा।

आज के कार्यशाला में जनप्रतिनिधि और निगम के अधिकारी ईश्वर राव, राजू पांडेय, रमेश तांती तथा स्वास्थ्य विभाग से सीएमएचओ डॉ एसएन केसरी एवं नोडल अधिकारी तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम डॉ डीके टोडर, डीपीएम इंचार्ज डॉ योगेश पटेल शहरी, शहरी कार्यक्रम प्रबंधक डॉ राकेश वर्मा, सीमा बरेट तंबाकू नियंत्रण प्रभारी तथा एनवीबीडीसीपी कंसलटेंट शेख निसार एवं विभाग के कर्मचारी उपस्थित रहे।