डायबिटीज लाइफ स्टाइल से जुड़ी बीमारी है, जिसका सबसे बड़ा कारण है आपकी आलसी जीवनशैली और खराब डाइट। डायबिटीज को लेकर सबसे चिंताजनक बात ये है कि ये एक साथ कई बीमारियों का कारण बन जाती है। जैसे कि डायबिटीज और मोटापा एक दूसरे से जुड़े हुए हैं। तो, बढ़ा हुआ ब्लड शुगर आपके ब्लड प्रेशर को प्रभावित करता है और दिल की बीमारियों के खतरे को बढ़ाता है। ऐसे में सबसे जरूरी है कि आप अपनी लाइफ स्टाइल में खाने-पानी से लेकर सोने व जागने सहित एक्सरसाइज और योग जैसे बड़े बदलावों को शामिल करें। पर वेलनेस कॉच ल्यूक कॉन्टिनहो (Luke Coutinho) की मानें, तो डायबिचटीज में एक सही डाइट के साथ कुछ जड़ी बूटियों और मसालों का सेवन करें तो, ये हमारे लिए तेजी से ब्लड शुगर कंट्रोल करने में मदद कर सकते हैं। इसके अलावा ये डायबिटीज में और भी कई तरीकों से फायदेमंद हैं। तो, आइए जानते हैं क्या हैं ये  हर्ब्स और मसाले (Herbs spices for diabetes) और कैसे करें इनका सेवन।

डायबिटीज के रोगियों के लिए हर्ब्स और मसाले – Herbs spices for diabetes

1. दालचीनी (Cinnamon benefits for diabetes)

दालचीनी में बायोएक्टिव घटक होते हैं जो ब्लड शुगर के स्तर को कम करने में मदद कर सकते हैं। ये खास कर डायबिटीज टाइप 2 से पीड़ित लोगों के लिए बहुत फायदेमंद है। दरअसल,  टाइप 2 मधुमेह में फास्टिंग प्लाज्मा ग्लूकोज, एलडीएल कोलेस्ट्रॉल, एचडीएल कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड के स्तर पर इसका लाभकारी प्रभाव हो सकता है। इसके अलावा दालचीनी इंसुलिन रेजिस्टेंस को करके शुगर को पचाने और इसे कंट्रोल करने में मदद करता है। इसके अलावा एक ग्राम पिसी हुई दालचीनी लेने से कोलेस्ट्रॉल को लगभग 18% और ब्लड शुगर के स्तर को 24% तक कम कम कर सकती है। इसलिए डायबिटीज के मरीजों को इसे खाने में शामिल करना चाहिए और इसे ऐसे भी चबाना चाहिए। इसके अलावा डायबिटीज में दालचीनी के रेगुलर सेवन से लिवर को हेल्दी रखने में मदद करता है।

दालचीनी का सेवन कैसे करें?

  • -आप रोजाना 1 से 2 ग्राम दालचीनी चाय या फिर अपनी ग्रीन टी में मिला कर ले सकते हैं।
  • -आप इसे अपने दलिया, स्मूदी पर भी छिड़क सकते हैं।
  •  – खाना पकाने और बेकिंग में इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • -फलों को काट कर उस पर दालचीनी पाउडर डाल कर खाएं।
  • -आप दालचीनी पाउडर को अपने सलाद में इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • -दालचीनी पाउडर को दही में मिला कर खाएं।

हालांकि, अपनी डायबिटीज की स्थिति के अनुसार उपयुक्त उचित खुराक के लिए हमेशा डॉक्टर से परामर्श लें। अगर आप खून को पतला करने वाली दवा लेते हैं तो दालचीनी के सेवन से बचें।

2. हल्दी (Turmeric for Diabetes)

हल्दी के फायदे की बात करें तो, ये हमेशा से ही इम्यूनिटी बूस्टर हर्ब माना जाता रहा है। हल्दी की खास बात ये है कि इसमें एक केमिकल करक्यूमिन (Curcumin) पाया जाता है। हल्दी का सारा गुण इसी एक्टिवएजेंट में है। इसी के कारण हल्दी एंटीइंफ्लेमेटरी, एंटीऑक्सीडेंट, एंटी-एथेरोस्क्लोरोटिक, दिल को हेल्दी रखने और वजन कम करने में मददगार है। पर इसका सबसे ज्यादा फायदा डायबिटीज के मरीजों को मिलता है। डायबिटीज में हल्दी का सेवन ब्लड शुगर को कंट्रोल करने में मददगार है। ये शुगर के लेवन को अचानक से बढ़ने से रोकता है। साथ ही इसके कुछ फाइटोकैमिकल्स डायबिटीज के मरीजों को दिल की बीमारियों से बचाने में मदद करते हैं। ये टिशूज और सेल्स को हेल्दी रखते हैं। इसके अलावा ये किडनी को भी हेल्दी रखने में मदद करते हैं और डायबिटीज के कारण इन्हें होने वाले नुकसानों से बचाते हैं। साथ ही डायबिटीज के मरीजों में ये रिकवरी को तेज करता है। दरअसल, डायबिटीज का स्किन पर प्रभाव पड़ता है और  कोई भी घाव तेजी से ठीक नहीं होता है। ऐसे में हल्दी हीलिंग और रिकवरी को तेज करने में मददगार है।

हल्दी का सेवन कैसे करें?

  • -अपने खाना पकाने में कच्ची या पीसा हुआ हल्दी शामिल करें ताकि आपको  करक्यूमिन ज्यादा मात्रा में मिल पाए।
  • -हल्दी वाली चाय पिएं।
  • -हल्दी वाला दूध पिएं।

ध्यान रहे कि अगर आप हल्दी वाला सप्लीमेंट लेने के बारे में सोच रहे हैं तो अपने डॉक्टर से सलाह लेने के बाद ही इसे लें। कोशिश करें कि करक्यूमिन के लिए इसके नेचुरल सोर्स का इस्तेमाल करें।