टोक्यो पैरालंपिक 2020 में भारतीय शटलर मनोज सरकार ने बैडमिंटन में मेंस सिंगल्स के एसएल3 क्लास कैटेगरी में ब्रॉन्ज मेडल जीत लिया है। उन्होंने जापान के डाइसुके फुजिहारा को 22-20, 21-13 से हराया। ये मुकाबला 47 मिनट तक चला। पहला गेम 27 मिनट तक चला। इसमें जापान के फुजिहारा ने मनोज को कड़ी टक्कर दी। दूसरा गेम 19 मिनट तक चला। बैडमिंटन में भारत के लिए टोक्यो पैरालंपिक 2020 में ये दूसरा मेडल है।

प्रमोद भगत ने सिंगल्स के एसएल3 क्लास के फाइनल मुकाबले को जीतकर देश को इस खेल में पहला गोल्ड मेडल दिलाया। उन्होंने ब्रिटेन के डेनियल बेथेल को 21-14, 21-17 से मात दी। इसी के साथ वो पैरालंपिक में भारत की तरफ से मेडल जीतने वाले पहले बैडमिंटन खिलाड़ी बने। पैरालंपिक खेलों में बैडमिंटन को पहली बार शामिल किया गया है। भारत ने पैरालंपिक 2020 में अभी तक 17 मेडल जीत लिए हैं। शनिवार का दिन भारत के लिए शानदार रहा।

Tokyo Paralympics: टोक्यो पैरालंपिक में प्रमोद भगत ने रचा इतिहास, बैडमिंटन में भारत को दिलाया पहला गोल्ड मेडल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मनोज सरकार को ब्रॉन्ज मेडल जीतने पर ट्वीट कर बधाई दी। उन्होंने काहा, ‘मनोज सरकार के शानदार प्रदर्शन से बहुत खुश हूं। बैडमिंटन में प्रतिष्ठित ब्रॉन्ड मेडल स्वदेश लाने के लिए उन्हें बधाई। आने वाले समय के लिए बहुत-बहुत शुभकामनाएं।’

इससे पहले मनीष नरवाल और सिंहराज ने शूटिंग के P4मिक्सड 50 मीटर पिस्टल इवेंट में गोल्ड और सिल्वर मेडल को अपने नाम किया। बैडमिंटन में ब्रॉन्ज मेडल जीतने वाले मनोज सरकार उत्तराखंड के रहने वाले हैं।  मनोज सरकार ने पैरालिंपिक बैडमिंटन इवेंट के सेमीफाइनल में जगह बनाई थी। लेकिन सेमीफाइनल में उन्हें दूसरी वरीयता प्राप्त ब्रिटेन के डेनियल बेथेल ने 21-8, 21-10 से हराया था। मैच में मिली हार के बाद मनोज ने ब्रॉन्ज मेडल के लिए क्वालीफाई किया था।